कश्‍मीर में मीडिया से प्रतिबंध हटा, कर्फ्यू जारी

kashmir-violence6

श्रीनगर। कश्मीर घाटी में अलगाववादियों द्वारा बंद के मद्देनजर गुरुवार को लगातार 13वें दिन भी कर्फ्यू जारी है, जिससे सामान्य जनजीवन प्रभावित है। अलगाववादी नेताओं सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारुख और यासिन मलिक ने बुधवार को बंद की अवधि बढ़नें का आह्वान किया। इसके बाद अब घाटी में सोमवार तक बंद रहेगा।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, “हिंसा से बचने के लिए घाटी के अधिकांश हिस्सों में आज (गुरुवार) कर्फ्यू लगाने का फैसला किया है।” राज्य सरकार ने हालांकि चार जिलों गांदेरबल, बडगाम, बांदीपोरा और बारामूला में स्कूल खोलने का फैसला किया है।

एक अधिकारी ने बताया, “कर्फ्यू के दौरान शिक्षकों, सरकारी कर्मचारियों को कार्यस्थलों तक जाने के लिए उनके पहचान पत्रों को कर्फ्यू पास की तरह समझा जाएगा।”

यह भी पढें:- कश्मीरी पंडित परिवारों की महिलाओं के लिए सरकार की बड़ी मुहिम

गौरतलब है कि घाटी में पांच दिनों तक स्थानीय समाचार पत्रों और अंग्रेजी के समाचार पत्रों का प्रकाशन बंद रहने के बाद गुरुवार यह कुछ शर्तो के साथ शुरू हो गया।

समाचार पत्र के संपादकों ने मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के साथ बैठक के बाद समाचार पत्रों का प्रकाशन शुरू करने का फैसला किया। महबूबा ने प्रशासन द्वारा समाचार पत्रों के प्रकाशन पर प्रतिबंध के फैसले पर खेद जताया।

अधिकारियों ने बताया कि घाटी में किसी भी स्थान पर भीड़ द्वारा पथराव की कोई बड़ी घटनाएं नहीं हुई। नेशनल कांफ्रेस पार्टी ने सर्वदलीय बैठक का बहिष्कार किया। महूबबा ने इस तनाव को समाप्त करने के लिए चर्चा के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई थी।

इस बीच, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय महासचिव और कश्मीर मामलों के प्रभारी राम माधव, महबूबा के साथ घाटी में स्थिति पर चर्चा के लिए यहां पहुंच गए हैं।

हिजबुल कमांडर बुरहान वानी और उसके दो सहयोगियों की सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारे जाने के बाद से ही यहां हिसा का माहौल है। इसमें 45 लोगों की मौत हो गई है, जिनमें 43 नागरिक और दो पुलिसकर्मी हैं।

कश्मीर में कर्फ्यू में ढील दी जाएगी

प्रशासन ने गुरुवार को घाटी में दोपहर के वक्त कर्फ्यू में ढील देने का फैसला किया है, ताकि लोग जरूरत का सामान ले सकें। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, “लोगों को राहत देने के लिए दोपहर के समय कर्फ्यू में ढील दी जाएगी। कानून एवं व्यवस्था स्थिति के मद्देनजर शाम में ढील की समीक्षा की जाएगी।”

प्रशासन ने गुरुवार को चार जिलों गांदेरबल, बांदीपोरा, बडगाम और बारामूला में स्कूल खोलने का फैसला किया है। घाटी में 10 जिले हैं।

कर्फ्यू में ढील देने का फैसला घाटी में दोपहर दो बजे के बाद दिनभर के लिए बंद समाप्त करने के अलगाववादियों के आह्वान के बाद साथ आया है। हालांकि अलगाववादियों ने एक बार फिर शुक्रवार से सोमवार तक बंद का आह्वान किया है।

=>
LIVE TV