Sunday , October 22 2017

एनडीए की ओर से वैंकया नायडू उपराष्ट्रपति उम्मीदवार, जानिए कैसा रहा उनका राजनीतिक जीवन

उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवारनई दिल्ली। केंद्र सरकार के मंत्री और बीजेपी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष वैंकया नायडू एनडीए के उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार घोषित किए जा चुके हैं। दो दिन से सियासी गलियारों में उनके नाम की चर्चा थी लेकिन सोमवार को सर्वदलीय बैठक में इस पर मुहर लग गई। उनके नाम का फैसला बीजेपी की संसदीय समिति की बैठक में हुआ। इस बारे में जानकारी देते हुए बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने बताया कि वैंकया मंगलवार को सुबह 11 बजे नामांकन दाखिल करेंगे। वैंकया के पास फिलहाल शहरी विकास और ससंदीय कार्य मंत्रालय है। वैंकया बीजेपी की ओर से राज्यसभा में चार बार सांसद रह चुके हैं। अटल बिहारी वाजपेयी की कार्यकाल में वैंकया बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने थे।

यह भी पढ़ें:-राष्ट्रपति चुनाव : 100 फीसदी के लगभग हुआ मतदान, सभी राज्यों ने किया पूरा सहयोग

वैंकया नायडू का प्रारंभिक जीवन

वेंकैया नायडू का जन्म 1जुलाई 1949 को चावटपलेम, नेल्लोर जिला, आंध्र प्रदेश के एक कम्मा परिवार में हुआ था। उन्होंने वी.आर. हाई स्कूल, नेल्लोर से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की और वी.आर. कॉलेज से राजनीति तथा राजनयिक अध्ययन में स्नातक किया।

स्नानातक की पढाई पूरी करने के बाद उन्होंने आन्ध्र विश्वविद्यालय, विशाखापत्तनम से कानून में स्नातक की डिग्री हासिल की। 1974 में वे आंध्र विश्वविद्यालय में छात्र संघ के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित हुये। कुछ समय  तक वे आंध्र प्रदेश के छात्र संगठन समिति के संयोजक भी रह चुके हैं।

राजनीतिक जीवन

वेंकैया नायडू की पहचान हमेशा एक ‘आंदोलनकारी’ के रूप में रही है। वह 1972 में ‘जय आंध्र आंदोलन’ के दौरान पहली बार सुर्खियों में आए। उन्होंने इस दौरान नेल्लोर के आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लेते हुये विजयवाड़ा से आंदोलन का नेतृत्व किया।

नायडू आपातकाल के विरोध में सड़कों पर भी उतर आए थे और उन्हें जेल भी जाना पड़ा। आपातकाल के बाद वे 1977 से 1980 तक जनता पार्टी के युवा शाखा के अध्यक्ष रहे। इस दौरान सक्रिय रूप से नायडू राजनीति में उतर चुके थे।

भारतीय जनता पार्टी के उदय के बाद से ही एक मजबूत राजनेता के तौर पर पार्टी से जुड़े रहे। वर्ष 2002 से 2004 तक उन्होने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का उतरदायित्व निभाया। वे अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री रहे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सत्ता संभालने के बाद से नायडू पीएम मोदी के करीबी माने जाने लगे। वर्तमान में वह भारत सरकार के अंतर्गत शहरी विकास, आवास तथा शहरी गरीबी उन्मूीलन तथा संसदीय कार्य मंत्री है।

यह भी पढ़ें:-राष्ट्रपति चुनाव : संपन्न हुआ मतदान, 20 जुलाई को सामने आएगा परिणाम

कब-कब किस पद पर रहे वैंकया नायडू

1973-1974 – आंध्र विश्वविद्यालय में छात्र संघ का अध्यक्ष चुना गया।

1974 – लोक नायक जय प्रकाश नारायण युवजन चतरा संघर्ष समिति के संयोजक के पद पर आसीन हुयें।

1977-1980 –  जनता पार्टी की युवा शाखा के अध्यक्ष चुने गयें।

1980-1985 – आंध्र प्रदेश भाजपा विधायक दल के नेता चुने गयें।

1985-1988 –  आंध्र प्रदेश राज्य भाजपा के महासचिव पद पर आसीन हुयें।

1988-1993 – आंध्र प्रदेश राज्य भाजपा के अध्यक्ष चुने गयें।

1993- 2000  भारतीय जनता पार्टी, सचिव, भाजपा संसदीय बोर्ड, सचिव, भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति, भाजपा के प्रवक्ता रहें।

20002002 – भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री पद पर रहें।

20022004 – भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनें।

2014 – अब तक – केंद्र सरकार में शहरी विकास और संसदीय मामलों के केंद्रीय मंत्री पद पर कार्यरत हैं।

=>
LIVE TV