ईरान पर अमेरिका ने लगाया गंभीर आरोप , सऊदी ऑयल प्लांट पर कराया हमला…

अमेरिका सबसे ज्यादा तरक्की करने वाला देश माना जाता हैं. वहीं देखा जाये तो अमेरिका चाहे उत्पादन में हो ये इधन में हर मामले में सबसे आगे हैं. वहीं अमेरिका के राष्ट्रपति ड्रोन ने ईरान पर हमला कार्य हैं वहीं उनका कहना हैं कि सऊदी ने ऑयल ने प्लांट पर हमला कार्य हैं. 

 खबरों के मुताबिक सऊदी अरब में हुए ड्रोन हमले में शनिवार को सरकारी कंपनी अरामको की दो तेल रिफाइनरियों में आग लग गई. सऊदी प्रेस एजेंसी ने कहा कि ड्रोन हमले के कारण रियाद से लगभग 150 किलोमीटर दूर अबकैक शहर में रिफाइनरी में आग लग गई. अरामको कंपनी दुनिया के सबसे बड़े ऑयल प्रोसेसिंग प्लांट के रूप में जानी जाती है. वहीं इस ड्रोन हमले के लिए अमेरिका ने ईरान को जिम्मेदार ठहराया है. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने कहा कि ईरान ने दुनिया भर में तेल सप्लाई रोकने के लिए ड्रोन हमले करवाए हैं.

पुलिस के अतिक्रमण हटाने से गुस्साए ग्रामीण, पुलिस को झेलना पड़ा विरोध

माइक पोंपियो ने एक ट्वीट में लिखा, ‘सऊदी अरब पर लगभग 100 हमलों के लिए तेहरान जिम्मेदार है जबकि रूहानी और ज़रीफ कूटनीति में शामिल होने का दिखावा करते हैं. ईरान ने अब दुनिया की ऊर्जा आपूर्ति पर एक अभूतपूर्व हमला किया है. यमन के हमलों का कोई सबूत नहीं है.’

शनिवार के इस हमले से सऊदी अरब में तेल सप्लाई पर काफी असर पड़ा है और तेल की कीमतें भी बढ़ने लगी हैं. मध्य पूर्व के कई देशों में तेल की कीमतों में बढ़ोतरी की आशंका बढ़ गई है. रियाद की मीडिया ने बताया है कि दोनों रिफाइनरी में लगी आग पर अब काबू पा लिया गया है और इस हमले को लेकर जांच शुरू कर दी गई है.

दरअसल सोशल मीडिया पर कई तरह के वीडियो शेयर किए जा रहे है, जिसमें अरामको के कंपाउंड को आग की लपटों में घिर देखा जा सकता है. इसके अलावा साइट की बिल्डिंग से काला धुआं निकलता देखा जा सकता है. कुछ वीडियो में तो कई धमाकों की आवाज तक सुनी जा सकती है.

 

=>
LIVE TV