इस सेठ को लोग दिल खोलकर देते हैं सोना-चांदी

sanwaliya-ji-56fb72a28ce33_lएजेन्सी/बाजार में सोने-चांदी के बेतहाशा बढ़ते भाव आस्था के आगे कमतर ही साबित हो रहे हैं। तभी तो प्रदेश के कई मंदिरों में सोने और चांदी से बने आभूषणों को चढ़ाने वाले श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ती जा रही है। 

राज्य के कई मंदिर ऐसे हैं, जहां करोड़ों का चढ़ावा आता है। यहां आने वाले भक्त दिल खोलकर सोना-चांदी चढ़ाते हैं। मेवाड़ का प्रमुख कृष्णधाम सांवलियाजी प्रदेश का ऐसा मंदिर है, जहां सर्वाधिक सोना-चांदी चढ़ाया जाता है। वहीं देवस्थान विभाग के प्राचीन मंदिरों के बीते सालों का रिकॉर्ड देखें तो इनमें भी बड़ी संख्या में सोने-चांदी के जेवर निकलते रहे हैं।

इन मंदिरों में बढ़ा चढ़ावा 

हनुमानगढ़ के गोगामेड़ी मंदिर में सबसे बड़े मेले में लाखों भक्त पहुंचते हैं। यहां वर्ष 2013-14 में 1.35 करोड़ रुपए तथा वर्ष 2014-15 में 1.56 करोड़ रुपए नकद चढ़ावा में मिले तो क्रमश: 1.10 व 9.77 ग्राम सोना व 6.277 किलो और 7.916 किलो चांदी प्राप्त हुई। 

उदयपुर जिले के ऋषभदेव स्थित केसरियाजी मंदिर में 2013-14 में 8.37 लाख व वर्ष 14-15 में एक करोड़ से ज्यादा का नकद चढ़ावा चढ़ा। यहां क्रमश: 976 और 212 ग्राम सोना और 7 किलो, 513 ग्राम और 8 किलो 877 ग्राम चांदी का चढ़ावा हुआ।

इसलिए सेठ हैं सांवलियाजी

चित्तौडग़ढ़ के सांवलियाजी मंदिर में चढ़ावे को लेकर तो मान्यता कुछ अलग ही है। यहां हर माह खुलने वाले भंडार में तीन करोड़ से ज्यादा रुपए और बड़ी मात्रा में सोने-चांदी के जेवर निकलते हैं। गत सप्ताह खुले भंडार में साढ़े तीन करोड़ रुपए नकदी, 22.50 तोला सोना और 12 किलो चांदी निकली। 

सरकारी मंदिरों में आस्था की गणित 

  1. आसपुर (डूंगरपुर) विजवामाता मंदिर में एक साल में 1 ग्राम 200 मिली ग्राम सोना, तीन साल में दो किलो से ज्यादा चांदी चढ़ाई गई।
  2.  राजसमंद के चारभुजा मंदिर में वर्ष 2013-14 में 706 ग्राम सोना, 10.790 ग्राम चंादी, वर्ष 2014-15 में 407.380 ग्राम सोना और 25.247 ग्राम चांदी चढ़ी। कोटा के डाढ़देवी माताजी मंदिर में 2013 से 2015 तक 19 चांदी के छत्र चढ़ाए गए। 
  3. बारां में अंता स्थित गोवर्धननाथ मंदिर में वर्ष 2013-14 में एक स्वर्ण नथ और वर्ष 2013 से 2015 तक 75 चांदी के छत्र चढ़ाए गए।
  4. पाली के सोमनाथ मंदिर में वर्ष 2013-14 में 1588 ग्राम चांदी चढ़ी। 
  5. उदयपुर के जगदीश मंदिर में तीन साल में 150.27 ग्राम सोना और 2212.8 ग्राम चांदी चढ़ी। 
  6. बूंदी के तिलक चौक स्थित चारभुजा नाथ मंदिर में 13-14 में दो बांसुरी चढ़ाई गई।
=>
LIVE TV