इस विजयदशमी उद्धव ठाकरे का नया अंदाज, कार्यकार्ताओं से मांगी माफी

मुंबई। शिवसेना कार्यकर्ताओं के लिए दशहरे का दिन हमेशा से ही खास माना जाता है. लेकिन इस बार दशहरे पर कार्यकर्ताओं की सोच से उलटा हुआ. दरअसर, इस बार उद्धव ठाकरे ने अपने कार्यकार्ताओं से माफी मांग ली. उन्होंने गठबंधन के चलते छूटी हुई पार्टी के लिए माफी मांगी है, कहां कि इस वजह से कार्यकार्ताओं को संतोष करना पड़ा.

शिवसेना

मुंबई में शिवसेना की दशहरा रैली शिवाजी पार्क में बुलाई गई थी. इस रैली में भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के साथ गठबंधन पर उद्धव ठाकरे पार्टी कार्यकर्ताओं को समझाते नजर आए कि क्यों दोबारा बीजेपी के साथ गठबंधन करने का पार्टी ने फैसला लिया.

महाराष्ट्र में शिवसेना की भूमिका बीजेपी के लिए हमेशा से बड़े भाई के तौर पर रही है लेकिन अब समीकरण बदल गए हैं. शिवसेना 124 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, वहीं बीजेपी के 164 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. 288 सीटों पर होने वाले इस गठबंधन में अन्य पार्टियों को भी शामिल किया गया है.

महराष्ट्र के लिए समझौता

गठबंधन में कम सीटें मिलने पर पहली बार उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘लोग कह रहे हैं कि शिवसेना झुकने के लिए मजबूर की गई. शिवसेना किसी के सामने झुकती नहीं है. समझौता, गठबंधन का एक अंग है. मैं व्यक्तिगत तौर पर शिवसेना कार्यकर्ताओं से माफी मांगता हूं जिन सीटों पर हमारा वोट शेयर नहीं है. हमने महाराष्ट्र के लिए समझौता किया है.’

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट में मैन ऑफ द मैच बने रोहित शर्मा, ICC रैंकिंग में 17वें नंबर पर पहुंचे

उद्धव ठाकरे ने पार्टी कार्यकर्ताओं से रैली के दौरान पूछा क्या कि क्या आप पार्टी के फैसले से सहमत हैं, जिसका पार्टी कार्यकर्ताओं ने हां में जवाब दिया. उद्धव ठाकरे ने पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील की कि वे गठबंधन के लिए काम करें.

अनुच्छेद 370 हटना, बालासाहेब का सपना

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के लिए मंगलवार को केंद्रीय गृहमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह की प्रशंसा की. उद्धव ने अपनी परंपरागत वार्षिक दशहरा रैली को संबोधित करते हुए शाह को एक ऐसा व्यक्ति करार दिया, जो अपने वादों को पूरा करते हैं और कहा कि अनुच्छेद 370 को समाप्त करना शिवसेना के संस्थापक बालासाहेब ठाकरे का एक सपना था.

उद्धब ठाकरे अपने पूरे भाषण में सिर्फ इसी पर जोर देते नजर आए कि उन्होंने बीजेपी के साथ गठबंधन का फैसला क्यों किया. उद्धव ठाकरे ने जोर दिया कि उनकी पार्टी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए प्रतिबद्ध है. शिवसेना राम मंदिर निर्माण के लिए कानून बनाने की मांग करती आई है.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने आर्थिक मंदी पर जताई चिंता, तीन महीने में खत्म होगा वित्त वर्ष

मुंबई में शिवसेना की दशहरा रैली को संबोधित करते हुए संजय राउत ने कहा कि इस बार के विधानसभा चुनाव में हम 100 से ज्यादा सीटें जीत रहे हैं. उन्होंने कहा कि नोटबंदी के खिलाफ किसी की बोलने की हिम्मत नहीं हुई लेकिन उद्धव ठाकरे ने बोला. ठाकरे ने यह भी कहा था कि गलत नीतियों के कारण अर्थव्यवस्था की गति धीमी हो गई थी.

=>
LIVE TV