इलाहाबाद हाईकोर्ट में अवकाश में भी होगा काम

sud_court-pic_56a1d074f1df8एजेंसी/ इलाहाबाद : अब इलाहाबाद उच्चन्यायालय में न्यायालयीन अवकाश के सीज़न में भी प्रकरणों की सुनवाई हो सकेगी। दरअसल भारत के मुख्य न्यायाधीश टीएस ठाकुर के निवेदन के बाद इस तरह का निर्णय लिया गया है। जिसके बाद उच्च न्यायालय के 68 न्यायाधीश गर्मियों के अवकाश के दौरान भी प्रकरणों की सुनवाई करेंगे। यदि ऐसा होता है तो इलाहाबाद उच्च न्यायालय देश का पहला ऐसा न्यायालय होगा जहां अवकाश के दौरान भी प्रकरणों की सुनवाई होगी।

इस मामले में प्रमुख न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ ने पहल की है और कहा है कि न्यायाधीश न्यायिक कार्यों में लगे रहेंगे। मिली जानकारी के अनुसार रजिस्ट्रार जनरल एसके सिंह की ओर से जारी किए गए पत्र के अनुसार चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूढ़ ने उच्चन्यायालय के बार एसोसिएशन के सदस्यों और वरिष्ठ न्यायाधीशों से गर्मी के अवकाश के दौरान न्यायिक कार्य को लेकर सहमति ले ली है।

बार के पदाधिकारियों और वरिष्ठ न्यायाधीशों के साथ इस मामले में प्रमुख न्यायमूर्ति की बैठक में निर्णय लिया गया कि गर्मी के अवकाश के तहत कई तरह के कार्य हो पाऐंगे। जिसमें जेल अपील, क्रिमिनल अपील की सुनवाई आदि कार्र हो सकेंगे।

उल्लेखनीय है कि भारत के प्रमुख न्यायाधीश श्री ठाकुर प्रधानमंत्री के साथ एक सम्मेलन में मौजूद थे उस दौरान वे भावुक हो गए थे और उन्होंने कहा था कि सरकारों द्वारा जजों की नियुक्तियों की बात की जाती है लेकिन हर बार निर्णय अटक जाता है। भारत के न्यायाधीशों के पास इतने प्रकरण होते हैं जिसके कारण लंबित प्रकरण अधिक रहते हैं।

=>
LIVE TV