अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू,ट्रस्ट ने ट्वीट करके कहीं ये बात

अयोध्या। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चांदी की ईंट और चांदी के फावड़े से श्री राम जन्मभूमि मंदिर की नीव रखने के बाद अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर निर्माण का कार्य शुरू कर दिया गया है। इस बात की जानकारी बुधवार को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से ट्वीट कर दी गई है। इससे पहले बीती 5 अगस्त को अयोध्या में ही मंदिर स्थल पर भूमि पूजन के लिए एक भव्य कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया था। अब ट्रस्ट की ओर से बताया गया है कि मंदिर निर्माण का कार्य भी शुरू कर दिया गया है।

बुधवार को ट्रस्ट ने ट्वीटर पर बताया गया जय श्री राम! प्रभु श्रीराम की पावन जन्मभूमि पर उनके भव्य और दिव्य मंदिर के निर्माण का कार्य माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा भूमिपूजन पश्चात प्रारम्भ हो गया है। श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र सभी राम भक्तों का आह्वान करता है कि मंदिर निर्माण हेतु यथाशक्ति और यथासंभव दान करें।

अयोध्या में बनने वाले भव्य राम मंदिर को कई विशेषताओं के साथ तैयार किया जाएगा। मंदिर निर्माण का काम देख रहे न्यास के एक सदस्य का कहना है कि मंदिर का ढांचा इतना ज्यादा मजबूत होगा कि उस पर भूकंप का कोई असर नहीं होगा।

यही नहीं मंदिर हजारों साल तक प्राकृतिक आपदाओं को झेलकर भी खड़ा रहेगा। मंदिर की नीव के स्तंभ उतने ही गहरे होंगे, जितने नदियों पर बनने वाले पुलों के होते हैं।

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय ने बताया है कि जमीन की खुदाई और उसे समतल किए जाने के दौरान मिलने वाली प्रस्तर की प्रतिमाओं को मंदिर में प्रदर्शन के लिए रखा जाएगा। न्यास को अब तक अपने बैंक खाते में 42 करोड़ रुपए मिल चुके हैं। हालांकि लोग दिल खोलकर दानकर रहे हैं। जिसमें एक रुपए से लेकर 1 करोड़ तक दान करने वाले लोग भी शामिल हैं।आपको बता दें कि साल 2019 में दोबारा केंद्र की सत्ता में वापसी करने वाली भाजपा सरकार और भारत के इतिहास के लिए 5 अगस्त का दिन काफी महत्वपूर्ण है। क्योंकि इसी तारीख को पिछले साल यानी 5 अगस्त 2019 को भाजपा सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को निरस्त कर दिया था। इसके बाद 5 अगस्त 2020 के दिन ही अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए नीव रखने का काम किया गया।

=>
LIVE TV