UK में बंद होगी टाटा स्टील

tata-steel_625x300_81459401517एजेन्सी/लंदन: टाटा स्टील ने ब्रिटेन में अपने स्टील कारोबार को बेचने का फैसला किया है। टाटा के इस फैसले से करीब 17,000 लोगों के सामने रोजगार का संकट खड़ा हो गया है। केवल रोजगार ही नहीं बल्कि ब्रिटिश अर्थव्यवस्था के लिए भी यह नुकसानदेह है।

ब्रिटिश पीएम इस मसले पर एक अहम बैठक भी करने जा रहे हैं। कई सासंदों ने स्टील उद्योग को उबारने के लिए पीएम डेविड कैमरन से दखल देने की मांग की थी। ब्रिटेन में स्टील उद्योग इस समय भारी मंदी में है और टाटा स्टील को भी लगातार नुकसान उठाना पड़ रहा है। पिछले करीब 12 महीनों से कंपनी की वित्तीय हालात लचर है, जिसके बाद अब कंपनी को बेचने का फ़ैसला किया गया है।

भारत के टाटा समूह की अग्रणी कंपनी टाटा स्टील ने कहा है कि उसने सभी विकल्पों पर विचार किया है। पोर्टफोलियो पुनर्गठन के तहत टाटा स्टील ब्रिटेन को पूरी तरह अथवा हिस्सों में बेचने के संभावित विकल्पों पर गौर किया गया है। यह फैसला पिछले 12 माह के दौरान ब्रिटेन की इकाई की लगातार बिगड़ती वित्तीय स्थिति को देखते हुए लिया गया।

टाटा स्टील ने रात एक बयान में कहा, ब्रिटेन के कारोबार से जुड़े टाटा स्टील के निदेशक मंडल के रणनीतिक विचार के बाद उसने अपनी यूरोपीय होल्डिंग कंपनी के निदेशक मंडल को सलाह दी है कि वह पोर्टफोलियो पुनर्गठन के लिए सभी विकल्पों की तलाश करे जिसमें टाटा स्टील यूके की पूर्ण या आंशिक हिस्सेदारी के निवेश का विकल्प भी शामिल है। टाटा ने ब्रिटेन के इस्पात क्षेत्र में 2007 की शुरआत में प्रवेश किया। ब्रिटेन का इस्पात क्षेत्र एक समय ब्रिटेन की समूची अर्थव्यवस्था में छाया हुआ था। टाटा ने तब एंग्लो-डच इस्पात निर्माता कंपनी ‘कोरस’ का कड़ी प्रतिस्पर्धा में अधिग्रहण किया। यह किसी भारतीय कंपनी समूह का विदेश में किया गया सबसे बड़ा अधिग्रहण था।

=>
LIVE TV