Thursday , November 15 2018

इस बार संतो को महामंडलेश्वर बनने के लिए देनी पड़ेगी अग्नि परीक्षा

रिपोर्ट- सईद राजा

इलाहाबाद। अगले साल लग रहे कुम्भ मेले में अलग अलग अखाड़ों में सैकड़ो संतो ने महामंडलेश्वर बनने के लिए आवेदन किया है उनकी अर्जियों की जांच और उनके सन्यासी जीवन की जांच के बाद उन्हें परीक्षा में खरा उतरने के बाद ही उन्हें अखाड़े का महामंडलेश्वर का पद दिया जायेगा।

मंथन करते संत

इस बार सैंकड़ों महिला सन्यासियों को भी महामंडलेश्वर बनाने की योजना है पिछली बार शराब कारोबारी सचिन दत्ता के महामंडलेश्वर बनने से उठे विवाद के बाद अखाड़े पूरी जांच पड़ताल के बाद ही इस पद पर किसी को विराजमान करेंगे।

इलाहबाद में साल 2019 में लग रहे कुम्भ मेले में सैंकड़ों लोगो कोअलग अलग अखाड़ों में महामंडलेश्वर बनाने की प्रक्रिया होगी। इसके लिए अलग-अलग अखाड़े में सैकड़ो संतो ने आवेदन किया है जिसमे उन्होंने सन्यास कब लिया और पुराणों की क्या जानकारी है और कर्मकांड की सारी अपनी योग्यता लिखी है कुम्भ और अर्ध कुम्भ में अलग अलग अखाड़ों में संतो को योग्यता के अनुसार महामण्डलेश्वर के पद पर शुशोभित किया जाता है इसके लिए धार्मिक अनुष्ठानो के साथ उनका पट्टा अभिषेक किया जाता है ।

महामंडलेश्वर बनने के लिए आम संत में कुछ खास योग्यत होनी चाहिए महामंडलेश्वर पद के लिए काम से कम दस साल तक सन्यास की अवधि पूरी होनी चाहिए और वेद पुराण के आलावा संस्कृत का अच्छा ज्ञान होना चाहिए तब अखाड़े के पीठाधीश्वर उनका पट्टा अभिषेक करके उन्हें सिंहासन पर विराजमान कराते है और उन्हें छत्र और चवर प्रदान किया जाता है।

इस बार अलग अलग 13 अखाड़ों में करीब 191 संतो ने अलग अलग शहरों से महामंडलेश्वर बनने की अर्ज़िया दी है जिनको जांच पड़ताल  बाद सारी प्रक्रिया खरा उतरने पर इस बार के कुम्भ में महामंडलेश्वर की उपाधि दी जाएगी शराब कारोबारी सचिन दत्ता को निरंजनी अखाड़े द्वारा महामंडलेश्वर बनाने के बाद उठे विवादों के बाद इस बार अखाड़े के पदाधिकारी अच्छी तरह ये जांच करेंगे की आवेदनकर्ता किसी व्यापर या गृहस्थ जीवन में लिप्त तो नहीं।

यह भी पढ़े: ट्रक और बस की टक्कर से हिली राजधानी, जिंदगी से जंग लड़ रहे दर्जनों लोग

अखाड़ा परिषद् के अध्यक्ष स्वामी नरेंद्र गिरी के मुताबिक इस बार जिसको भी महामंडलेश्वर बनाया जायेगा उसकी हर तरह से बारीकी से जांच की जाएगी और अवेदन जैसी को चीज इस पद में नहीं होती बल्कि अखाड़े की प्रक्रिया के हिसाब से योग्यता अनुसार इस पद पर चुनाव होता है।

=>
LIVE TV