राममंदिर निर्माण को लेकर आज से प्रवीण तोगड़िया का अनिश्चितकालीन उपवास

नई दिल्ली। 32 साल तक विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के अध्यक्ष पद की कमान संभालने वाले प्रवीण तोगड़िया ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। राम मंदिर निर्माण में हो रही देरी की वजह से तोगड़िया ने सरकार पर दबाव बनाने के लिए अनिश्चितकालीन उपवास रखने का फैसला लिया है। तोगड़िया का ये उपवास आज से शुरू हो रहा है।

प्रवीण तोगड़िया

प्रवीण तोगड़िया ने विहिप के नए अध्यक्ष एस कोकजे को उपवास में शामिल होने का आग्रह किया और कहा कि “वह या तो उपवास में उनके साथ शामिल हों या संसद में राम मंदिर निर्माण के लिए विधेयक लाने के लिए दबाव बनाएं”।

यह भी पढ़ें : कर्नाटक चुनाव : BJP ने 82 उम्मीदवारों की दूसरी सूची की जारी, जानें किसे मिली जगह

तोगड़िया ने कहा कि “विहिप ने कहा था कि एक बार हम (संघ परिवार) संसद में बहुमत में आएंगे तो हम विधेयक पास कर राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करेंगे। विहिप ने लोगों से अयोध्या में कार सेवा करने के लिए और शहादत देने को भी कहा था। राम मंदिर के लिए करीब 60 लोगों ने अपनी शहादत दी थी और गुजरात के हजारों लोगों ने अपना योगदान दिया था”।

पीएम मोदी की आलोचना करते हुए तोगड़िया ने कहा कि “सीमाओं पर सैनिक सुरक्षित नहीं हैं। किसान खुदकुशी कर रहे हैं। हमारी बेटियां हमारे घरों में सुरक्षित नहीं हैं और प्रधानमंत्री विदेश दौरे पर गए हैं”।

गौरतलब है कि 32 साल तक विश्व हिंदू परिषद में अध्यक्ष पद संभालने वाले तोगड़िया को विहिप की नई टीम में कोई भी नया दायित्व नहीं मिला है।

यह भी पढ़ें : यमुना एक्सप्रेस-वे पर चलती कार में युवती से रेप, तेज म्यूजिक से दबाई आवाज

वहीँ सोमवार को मुंबई के दहाणु में आयोजित ‘विराट हिंदू सम्मेलन’ में हिस्सा लेने पहुंचे RSS के प्रमुख मोहन भागवत ने राम मंदिर को लेकर बड़ा बयान दिया था। उन्होंने कहा कि “आज हम आजाद हैं। हमें अधिकार है कि हम अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण करें। वह सिर्फ मंदिर नहीं होगा बल्कि हमारी पहचान की निशानी होगा। मंदिर के स्थान को लेकर कोई संदेह नहीं है। यह अपने मूलस्थान पर ही बनना चाहिए। मामला सुप्रीम कोर्ट में है, हमें वहां के फैसले का इंतजार है”।

भागवत ने कहा कि “अयोध्या में अगर फिर से राम मंदिर का निर्माण नहीं हुआ तो हम अपनी संस्कृति की जड़ों से कट जाएंगे।

=>
LIVE TV