Friday , February 23 2018

म्यांमार सेना ने रोहिंग्या पर अत्याचारों का किया खंडन

म्यांमारनेपीथा| म्यांमार की सेना ने रखाइन प्रांत में अभियान चलाने के दौरान रोहिंग्या मुसलमानों की हत्या करने, महिलाओं के साथ दुष्कर्म व अत्याचार करने के आरोपों से मंगलवार को फिर इनकार किया है। समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, अगस्त में रोहिंग्या विद्रोहियों के एक समूह द्वारा पुलिस चौकियों पर हमला किए जाने के बाद हालिया सैन्य अभियान की शुरुआत हुई, जिसके चलते अल्पसंख्यक समुदाय के 614,000 से अधिक लोगों को बांग्लादेश भागना पड़ा।

पीएम मोदी और गांधी परिवार ने नेहरू को 128वीं जयंती पर दी श्रद्धांजलि

सैन्य अभियान की कई संगठनों ने निंदा की और संयुक्त राष्ट्र मानव अधिकार उच्चायुक्त ने इसे ‘जनजातीय सफाया’ करने वाला कदम बताया।

वहीं, सेना की ओर से जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि सेना ने हमेशा इस बात को सुनिश्चित किया है कि सुरक्षा बल कानून के मुताबिक काम करें और निर्दोष नागरिकों की हत्या नहीं हो।

रिपोर्ट में कहा गया, “सुरक्षा बलों ने नागरिकों को गिरफ्तार नहीं किया। उन्हें नहीं मारा-पीटा और उनकी हत्या नहीं की। उन्होंने संपत्ति नहीं लूटी या नष्ट नहीं की..किसी ग्रामीण को धमकाया या डराया नहीं।”

सेना ने कहा कि उसकी रिपोर्ट 3,217 रोहिंग्या ग्रामीणों से बातचीत पर आधारित है, जिन्हें देश के (म्यांमार) नागरिक के रूप में नागरिकता नहीं मिली है और रिपोर्ट में उन्हें बांग्लादेशी कहा गया है।

अमेरिका का सीरिया में आईएस से लड़ाई जारी रखने का संकल्प

वरिष्ठ जनरल मिन आंग ह्लेइंग के फेसबुक पेज पर प्राकशित रिपोर्ट के मुताबिक, 376 विद्रोहियों और सुरक्षा बलों के 13 सदस्यों की मौत की मौत संघर्ष में हुई है, जिन्हें ‘बंगाली आतंकवादी’ कहा गया है। साथ ही हुई है।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि पलायन कर रहे लोगों को एक भी गोली नहीं मारी गई और विद्रोहियों को जिनेवा समझौते के प्रावधानों के अनुसार ही गिरफ्तार किया गया।

मानवाधिकार संगठन एमेनस्टी इंटरनेशनल (एआई) ने इस रिपोर्ट को म्यांमार सेना द्वारा मानवता के खिलाफ अपराध को छुपाने के रूप में वर्णित किया है।

=>
LIVE TV