लाख टके की एक बात बोलीं महबूबा, दे दिया कश्मीरियों को बड़ा ज्ञान

श्रीनगर। जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने रविवार को कहा कि युवकों को बंदूकें त्याग देनी चाहिए, अन्यथा उन्हें सुरक्षाबलों की ऐसी हजारों बंदूकों का सामना करना पड़ेगा। महबूबा ने दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले में एक सरकारी कार्यक्रम से इतर एक सार्वजनिक सभा को संबोधित करते हुए कहा, “मैं आज आप के साथ दिल से बात करने आई हूं।”

#PNBScam : म्यूचुअल फंड में निवेश करने वालों की डूबी लुटिया, यहां भी दिखा बड़ा असर

महबूबा मुफ्ती

उन्होंने कहा, “कल मैं सत्ता में रहूं या न रहूं, लेकिन जबतक आप अपने बच्चों को बंदूकें छोड़ने के लिए राजी नहीं करते, तबतक उन्हें सुरक्षा बलों की हजारों बंदूकों का सामना करना पड़ेगा।”

त्रिपुरा चुनाव : चार बजे तक 75 प्रतिशत मतदान, चुनावी जीत को लेकर माकपा और भाजपा के अलग-अलग दावे

मुख्यमंत्री ने कहा, “हिंसा से हमें कुछ नहीं मिलेगा। यदि घाटी में हिंसा बढ़ती है तो सुरक्षा बलों के शिविर बढ़ जाएंगे और हमें उन शिविरों को हटाने में सैकड़ों साल लग जाएंगे।”

महबूबा ने कहा कि यदि शांति की उनकी पहल को जनता का पर्याप्त समर्थन मिलता है तो उनकी सरकार नियंत्रण रेखा के उस पार और अधिक मार्ग खुलवाने का प्रयास करेगी।

शोपियां, अनंतनाग और पुलवामा जिलों के साथ ही कुलगाम पिछले तीन वर्षो के दौरान आतंकवाद के लिए कुख्यात रहा है।

देखें वीडियो :-

=>
LIVE TV