कर्नाटक के युवाओं को पीएम मोदी का ‘गुरुमंत्र’, चुनाव से पहले चली ‘सम्मोहक’ चाल

नई दिल्ली: कर्नाटक विधानसभा चुनावों के बीच में पीएम मोदी ने युवाओं को सन्देश दिया है. चुनावो के बीच युवाओं को अपने पाले में करने के लिए राजनीतिक पार्टियाँ अनेको आयाम तलाशती नजर आती हैं ऐसे में पीएम मोदी के युवाओं के सन्देश को राजनीतिक स्वरूप देने की चर्चा जोरो पर है. अन्य पार्टियों की तरह पीएम नरेंद्र मोदी ने भी अपनी पार्टी के लिए मोर्चा संभाला हुआ है. सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नमो ऐप के जरिए राज्य BJP के युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. इस संवाद में पीएम ने कार्यकर्ताओं के सवाल का जवाब भी दिया.पीएम मोदी

पीएम मोदी ने इस संवाद में कहा कि कर्नाटक में हमारा युवा कार्यकर्ता जोश में है और ऐसा लग रहा है कि जनता खुद चुनाव को लड़ रही है. प्रधानमंत्री ने कहा कि राज्य में बीजेपी की लहर चल रही है. हमारे कार्यकर्ता ऑनलाइन, ऑफलाइन हर जगह काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी में नीचे तबके से कार्यकर्ता उठता है और आगे बढ़ता है.

यह भी पढ़ें: जिन्ना के ‘जिन्न’ मांग रहे आजादी, एएमयू की परीक्षाएं 12 मई तक स्थगित

पीएम ने कहा कि केंद्र सरकार ने युवाओं को रोजगार देने के लिए काफी काम किया है. इसमें मुद्रा योजना, स्टार्ट अप इंडिया, स्टैंड अप इंडिया के तहत युवाओं को सीधे तौर पर फायदा पहुंचाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने स्किल डेवलेपमेंट का काम किया है. और कर्नाटक में हमारी सरकार बनने पर इसे और भी आगे बढ़ाया जाएगा. पीएम ने इस दौरान एक वीडियो भी जारी किया.

पीएम मोदी बोले कि हमारे देश में लोग टेक्नोलॉजी का विरोध कर रहे हैं. ईवीएम, आधार कार्ड का भी विरोध किया जा रहा है. प्रधानमंत्री ने इस दौरान कर्नाटक के खिलाड़ियों का जिक्र किया और कॉमनवेल्थ गेम्स में उनके प्रदर्शन की तारीफ की. उन्होंने कहा कि कर्नाटक का बंगलुरु देश में स्टार्टअप का हब है.

यह भी पढ़ें: कर्नाटक चुनाव : रामानगरम में कुमारस्वामी का गढ़ तोड़ना आसान नहीं, जानें राजनीतिक पेंच

पीएम ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि उन्होंने 60 साल राज किया लेकिन उन्होंने कुछ नहीं किया इसलिए उनके पास बोलने के लिए कुछ नहीं है. पीएम ने कहा कि क्या देश में सारी बेरोजगारी पिछले चार साल में आई है? इससे पहले उनकी 10 साल सरकार रही लेकिन कुछ नहीं किया गया. प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारे सरकार ने ऐसे कई काम किए हैं जिनसे रोजगार के अवसर बढ़े हैं. उन्होंने कहा कि दुनिया की कई एजेंसियों ने भारत की तारीफ की है.

पीएम मोदी ने संवाद के दौरान राजनीतिक हिंसा के मुद्दे पर भी बात की. उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में वाद-विवाद होना जरूरी है लेकिन हिंसा की कोई जगह नहीं होनी चाहिए. राष्ट्रवादी विचार के कार्यकर्ताओं को मौत के घाट उतारा जा रहा है. उन्होंने कहा कि ये दौर 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद से शुरू हुआ था.

=>
LIVE TV