इजरायल के साथ हुई मिसाइल डील में खलनायक बना मेक इन इंडिया, रक्षा मंत्रालय ने रद्द किया करार

स्पाइक एंटी टैंक गाइडेड मिसाइलनई दिल्ली| मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के क्रम में रक्षा मंत्रालय ने भारतीय सेना को जबरदस्त झटका दिया है. रक्षा मंत्रालय ने इजरायल के साथ हुई स्पाइक एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल की 500 मिलियन डॉलर की डील को रद्द कर दिया है.

स्पाइक एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल डील रद्द

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इस डील के रद्द होने के पीछे भारत में ही अत्याधुनिक हथियारों के निर्माण को बढ़ावा देना बताया गया है. अब इस मिसाइल को बनाने की जिम्मेदारी रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) को दी गई है. डीआरडीओ को इस काम को पूरा करने में तीन से चार साल लगेंगे.

‘भगत सिंह वह लौंडा था जिसने खुद अपनी मौत को डिजाइन किया’

इससे पहले डीआरडीओ ‘नाग’ और ‘अनामिका’ जैसी एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल बना चुका है. अगर ऐसा होता है तो भारत इस तकनीक को स्वदेश में ही हासिल करने वाला देश बन जाएगा.

हालांकि इजरायल से हुई इस डील को भारत-इजरायल के संबंधों में और मजबूत स्तंभ के रूप में देखा जा रहा था. सेना मुख्यालय ने भी रक्षा मंत्रालय को पत्र लिख कर ऐसे आधुनिक हथियारों की तारीफ की थी.

कश्मीर में फैला ISIS का जाल, पुलिस स्टेशन पर हमले की ली जिम्मेदारी

स्पाइक मिसाइल की खासियत

तीसरी पीढ़ी की बेहद घातक स्पाइक मिसाइल ढाई किलोमीटर की रेंज वाली होती है. इस मिसाइल को दिन और रात दोनों ही समय में इस्तेमाल किया जा सकता है. अभी तक भारत के पास रात में अचूक वार करने वाली मिसाइल नहीं है.

LIVE TV