Facebook ने Bitcoin जैसी Libra क्रिप्टोकरेंसी को लेकर अपना पेश किया प्लान, देखें इसकी खासियतें !…

फेसबुक ने Libra क्रिप्टोकरेंसी को लेकर अपना प्लान पेश कर दिया है. ये फेसबुक के इतिहास में सबसे बड़े कदमों में से एक है. कंपनी ने इसे अरबों लोगों के लिए रोजमर्रा के आर्थिक जरूरतों के लिए लाया जा रहा है, ऐसा कंपनी ने बताया है.

कंपनी के मुताबिक Libra ग्लोबल क्रिप्टोकरेंसी है जिसे ब्लॉकचेन टेक्नॉलजी पर बनाया गया है. इसके जरिए लोग अपने पैसों का ट्रांजैक्शन कर सकते हैं. पैसे भेजना, रिसीव करना, खर्च करना और सुरक्षित किए जा सकते हैं.

फेसबुक के अधिकारी डेविड मार्कस ने कहा है, ‘Libra के पास दुनिया भर में अरबों लोगों तक ओपन फिनांशियल इकोसिस्टम पहुंचाने की संभावना है’

पिछले साल भारत में भी Bitcoin काफी पॉपुलर हुआ और यहां भी इसकी ट्रेडिंग की गई. भारत में Bitcoin के बाद से क्रिप्टोकरेंसी को लेकर लोगों में उत्साह देखने को मिला और इस पर बहस भी शुरू हुई.

इसे आप Bitcoin जैसा भी समझ सकते हैं जो अब फेसबुक लेकर आ रहा है.

 

‘वर्ल्ड सस्टेनेबल गैस्ट्रोनोमी डे’: भारत में हर साल 6700 करोड़ किलो खाना होता है बर्बाद,इससे  26 करोड़ का पेट भर सकता है !…

 

Libra एक जेनेवा बेस्ड नॉन प्रॉफिट एसोसिएशन है और इसका टार्गेट अरबों लोगों की आर्थिक तौर पर सर्व करने का है. यानी ट्रांजैक्शन नीड फुलफिल करना है.

Libra फेसबुक की क्रिप्टोकरेंसी होगा और यह फेसबुक, वॉट्सऐप, मैसेंजर और इंस्टाग्रम के पेमेंट सिस्टम में अहम रोल प्ले करेगा.

फेसबुक के इस क्रिप्टोकरेंसी आधारित प्रोजेक्ट के लिए मास्टर कार्ड, पेपाल, वीजा और स्ट्राइप जैसी कंपनियों ने पहले से ही फेसबुक को 10 मिलियन डॉलर्स दिए हैं, ताकि फेसबुक उन्हें अपने नेटवर्क में शामिल कर सके.

हालांकि फेसबुक इस क्रिप्टो करेंसी को आधिकारिक तौर पर 2020 में लॉन्च करने की तैयारी में है, लेकिन अभी सिर्फ इसका ऐलान किया गया है और इसके बारे में बताया गया है. अभी टेस्टिंग की जा रही है.

फेसबुक का टार्गेट है कि वर्चुअल टोकेन लॉन्च करके दुनिया भर के अरबों फेसबुक, इंस्टाग्रम, मैसेंजर और वॉट्सऐप यूजर्स को एक डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराए.

फेसबुक के इस क्रिप्टो करेंसी का नाम क्या होगा ये अभी किसी को नहीं पता है. लेकिन लोग उम्मीद कर रहे हैं, अंदाजा लगा रहे हैं और गेस कर रहे हैं कि कंपनी इसे ग्लोबल क्वॉइन या फेसबक्स का नाम देगी.

बीबीसी की भी एक रिपोर्ट के मुताबिक फेसबुक अपने क्रिप्टोकरेंसी का नाम इसी के तर्ज पर रख सकता है.

एक रिपोर्ट के मुताबिक Barclays ने प्रेडिक्ट किया है कि फेसबुक क्रिप्टोकरेंसी से कंपनी को 19 बिलियन डॉलर का रेवेन्यू जेनेरेट करने का मौका मिलेगा.

जाहिर है फेसबुक के को फाउंडर और सीईओ मार्क जकरबर्ग पहले भी क्रिप्टो करेंसी में अपनी दिलचस्पी दिखा चुके हैं और आज इस फेसबुक के प्रोजेक्ट के बारे में आम यूजर्स को और भी जानकारी मिलेगी.

 

=>
LIVE TV