बहुमत साबित करने के लिए भाजपा के पास हैं ये चार ब्रम्हास्त्र!

नई दिल्ली: कर्नाटक में 104 विधायकों के सहारे सत्ता पर काबिज होने का दावा करने वाली भाजपा की आज अग्निपरीक्षा है. प्रदेश में 224 में से 222 सीटों पर वोटिंग हुई थी जिसमें बीजेपी के पास 104, कांग्रेस के पास 78, जेडीएस के पास 37 और 2 निर्दलीय विधायक हैं. सुप्रीम कोर्ट ने भाजपा से आज शाम 4 बजे बहुमत साबित करने को कहा है.

भाजपा की अग्निपरीक्षा

भाजपा को बहुमत साबित करने के लिए सात विधायकों की जरूरत है. इस दशा में येदियुरप्पा सरकार क्या करेगी ये देखने वाली बात होगी. फिलहाल जो समीकरण बने हैं उसके आधार पर भाजपा के पास चार विकल्प बचते हैं.

पहला विकल्प

बीजेपी कांग्रेस और जेडीएस के 14 विधायकों का इस्तीफा दिलवा दे. इस हालत में सदन के सदस्यों की कुल संख्या 221 से 207 हो जाएगी और इस आंकड़े पर बीजेपी की 104 सीटें ही बहुमत के लिए काफी होंगी.

दूसरा विकल्प

कांग्रेस और जेडीएस के सात विधायक बीजेपी के पक्ष में वोटिंग कर दें. इस स्थिति में भले ही उन विधायकों की सदस्यता चली जाए लेकिन बीजेपी 111 वोट के साथ बहुमत हासिल कर लेगी.

तीसरा विकल्प

बीजेपी के कहने पर कांग्रेस और जेडीएस के 14 विधायक वोटिंग के दौरान सदन में अनुपस्थित रहें. तब भी बीजेपी 104 सीटों के साथ ही बहुमत हासिल कर लेगी.

चौथा विकल्प

बीजेपी अगर कांग्रेस और जेडीएस के दो तिहाई विधायकों को तोड़ ले जाने में कामयाब हो जाती है तो वो दल-बदल कानून से बच जाएगी. इसके लिए कांग्रेस के 52 और जेडीएस के 26 विधायकों को राजी करना होगा.

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को राज्यपाल वजुभाई वाला की ओर से येदियुरप्पा सरकार को बहुमत साबित करने के लिए दिए गए 15 दिन की अवधि को घटाकर शनिवार शाम 4 बजे तक कर दिया था. कोर्ट ने आदेश दिया कि फ्लोर टेस्ट का काम शाम तक पूरा करा लिया जाए.

=>
LIVE TV