प्रेम प्रसंग से परेशान युवक ने किया अपनी कुर्बानी देने का प्रयास लेकिन नियति ने दिया जीवन दान

रिपोर्ट- शशिकांत दीक्षित

कानपुर। कुदरत के करिश्मे ने एक युवक की जान बचा ली। प्रेम प्रसंग को लेकर युवक इस कदर डिप्रेशन में चला गया कि उसने ख़ुदकुशी करने के लिए बाएँ सीने पर तमंचा सटाकर खुद को गोली मार ली लेकिन भगवान् को शायद उसकी मौत मंजूर नहीं थी। परिजन युवक को घायल हालत में जब अस्पताल लाए तो घायल युवक का एक्सरे देख डॉक्टरों के होश उड़ गए युवक का दिल बाएँ तरफ न होकर दाएँ तरफ था जिससे उसकी जान बच गई।

अलग दिल

हमीरपुर जिले के उत्तरा गांव में रहने वाले युवक ने प्रेमिका से बात करते करते खुद को दिल पर तमंचा रख गोली मार ली।  बड़े भाई ऋषि ने बताया कि वह पिता और छोटा भाई सतीश किसानी करते है , छोटे भाई सतीश का जालौन जिले में रहने वाली एक लड़की से प्रेमप्रसंग चलता है कई बार मना करने के बाद भाई लड़की से फोन पर बात करता था 2 दिन पूर्व सतीश को अपनी प्रेमिका से फोन पर किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया जिसके बाद सतीश ने फोन पर बात करते करते बाई ओर 315 बोर का तमंचा सटा खुद को गोली मार ली गोली की आवाज सुन परिजन दौड़े और युवक को पास के हॉस्पिटल में ले गए जहां से डॉक्टरों ने युवक को कल्याणपुर एस आई एस हॉस्पिटल  के लिए रेफर कर दिया।

यह भी पढ़े: समाज से नहीं खत्म हो रहा तीन तलाक का नासूर, एक और महिला हुई शिकार

यहां भर्ती कराने पर एस आई एस हॉस्पिटल के आईसीयू इंचार्ज डॉक्टर आदित्य त्रिपाठी ने जब घायल सतीश का एक्सरा किया तो पता चला कि युवक का हृदय बाई ओर न होकर दाएँ ओर है जिसके बाद डॉक्टरों ने युवक का ऑपरेशन कर गोली बाहर निकाली डॉक्टर आदित्य त्रिपाठी ने बताया कि लाखों व्यक्ति में किसी एक व्यक्ति का दिल बाईं तरफ न होकर दाईं तरफ होता है। यही कारण है कि युवक की जान बच पाई अन्यथा उसने इतने करीब से गोली मारी थी कि अगर दिल सामान्य जगह पर होता तो तत्काल मौत हो सकती थी।

=>
LIVE TV