8 अप्रेल को होगा विक्रम संवत 2073 का आगाज, कैसा होगा नवसंवत्सर

surya00-1453547688एजेन्सी/ग्रहों की चाल जानने के उत्सुक लोगों के लिए अहम खबर है। ग्रहों की सत्ता इस बार शुक्र के हाथ में होगी। दोहरी जिम्मेदारी के रूप में वित्त मंत्रालय भी शुक्र को संभालना होगा। मंत्री का पद बुध के पास आ जाएगा। कानून-व्यवस्था भूमिपुत्र मंगल के जिम्मे होगी। सत्ता के इन चार महत्वपूर्ण पदों में से तीन की जिम्मेदारी सौम्य ग्रहों के पास रहेगी।

अभी राजा का पद शनि व मंत्री का जिम्मा मंगल ने संभाल रखा है। नवसंवत्सर से सत्ता में बड़ा बदलाव हो रहा है। ग्रहों के नए मंत्रिमंडल में हर ग्रह की जिम्मेदारी बदल जाएगी। इससे पहले संवत 2069 में शुक्र प्रधानमंत्री बने थे।

ज्योतिषाचार्य पंडित चंद्रमोहन दाधीच के अनुसार 8 अप्रेल को विक्रम संवत 2073 शुरू होगा और नवसंवत्सर के पहले दिन से ही नया मंत्रिमंडल प्रभावी हो जाएगा। हालांकि प्रतिपदा एक दिन पूर्व 7 तारीख से शुरू हो जाएगी लेकिन सूर्योदय के समय प्रतिपदा 8 को रहने से नवसंवत्सर इस दिन से शुरू होगा।

तिलक की विदाई, सौम्य का राज 

नए मंत्रिमण्डल में सत्ता सौम्य ग्रह के पास होने के साथ सवंत्सर का नाम भी सौम्य ही होगा। इसी के साथ पुराने संवत्सर तिलक की विदाई हो जाएगी। जानकारों का कहना है कि सौम्य के राज में जनता में भौतिक सुख-सुविधाओं से जीवन यापन करने की प्रवृत्ति बढ़ेगी। इस दौरान सरकार की जनता के प्रति जवाबदेही में भी वृद्धि देखी जाएगी।

स्थिति और उसका फल

राजा (प्रधानमंत्री) शुक्र : धान्य उत्पादन में वृद्धि, समाज में महिलाओं का वर्चस्व तेजी से बढ़ेगा।

मंत्री बुद्ध : व्यापारियों के लिए विशेष लाभकारी। बैंकों के कारोबार बढऩे के साथ उनका एकीकरण भी बढ़ेगा। प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि होगी।

धनेश (वित्त मंत्री) शुक्र : शेयर मार्केट में उथल-पुथल रहेगी। देश के सूचना एवं प्रौद्योगिकी में क्रांतिकारी परिवर्तन आएगा।

दुर्गेश (गृहमंत्री) मंगल : अपराध में बढ़ोतरी होगी लेकिन नवीन तकनीकों से अपराधियों को पकडऩे की रणनीतियां बढ़ेंगी।

अग्र धान्यधीपो (कृषि मंत्री) शनि : जनता में रोग व पीड़ा बढ़ेगी। सरकार और जनता में तालमेल की कमी होगी।

पश्च धान्यधीपो (खाद्यमंत्री) गुरु : कृषि विकास एवं भूमि सुधार होगा।

मेघेश (जलदाय मंत्री) मंगल : कहीं वर्षा कम तो कहीं अधिक होगी।

रसेश (डेयरी एवं गोपालन मंत्री) सूर्य : दूध-घी के उत्पादन में कमी होगी। डिब्बा बंद सामग्री का प्रचलन बढ़ेगा।

निरसेश (खनिज, परिवहन मंत्री) शनि : पेट्रोलियम पदार्थ महंगे हो जाएंगे। यातायात के साधन बढ़ेंगे।

फलेश (वन एवं पर्यावरण मंत्री) मंगल : वृक्षों पर फल-फूल कम लगेंगे।

यह रहेगा नया मंत्रिमंडल 

पद अभी ग्रह नए स्वामी

राजा   शनि शुक्र

मंत्री  मंगल बुध

अग्रधान्यधीपो गुरु शनि

पश्चधान्यधीपो बुध गुरु

मेघेश चंद्रमा मंगल

रसेश शनि  सूर्य

निरसेश गुरू शनि

फलेश चंद्रमा मंगल

धनेश गुरू शक्र

दुर्गेश चंद्रमा मंगल

=>
LIVE TV