4G से ज्यादा तेज हैं 5G नेटवर्क , जाने इंडिया में कब से हो रहा हैं शुरू…

आज हमारी सुबह इन्टरनेट से शुरू होती है और रात भी इसी पर खत्म. कभी किसी का वॉट्सऐप चलाए बगैर खाना हजम नहीं होता तो किसी को फेसबुक के बिना नींद नहीं आती. जियो के 4जी ने जब इंडिया में इत्ती बड़ी क्रांति ला दी तो 5जी मिल जाने पर तो वारे न्यारे हो जाने हैं.

 

 

बतादें की 2 जी, 3 जी, 4 जी और अब 5जी. यहां ‘जी माने तो जीनियस’ नहीं, जनरेशन. एक पीढ़ी से आई हुई नई पीढ़ी. जैसे हमारे दादा-दादी पहली जनरेशन, हमारे मां-बाप दूसरी जनरेशन और हम तीसरी जनरेशन. जहां इसी तरह 5जी, 4जी के बाद आया है. उससे ज़्यादा तेज़ है और उससे ज़्यादा काम कर सकता है.

Twitter ने अपने यूजर्स की सुविधा के लिए जारी किया हाइड रिप्लाई फीचर , जाने इसके फायदे…
देखा जाये तो 5जी 4जी से 100 गुना तेज़ नेटवर्क है. इसको ऐसे समझिए कि जो फिल्म 4जी नेटवर्क में कुछ मिनटों में डाउनलोड होती हैं वो अब (5जी के आ जाने पर) 30 सेकेंड में हो पाएगी.

लेकिन 5जी के आगे 4जी कुछ भी नहीं है. लेकिन 5जी की अपनी कुछ कमियां भी हैं. जैसे 5जी की वेव 300 मीटर से ज़्यादा दूर नहीं जा सकती. दूर तक वेव पाने के लिए कई ट्रांसमीटर लगाने पड़ेंगे जिससे जहां भी जाएं नेटवर्क मिल सके. पेड़, बिल्डिंग या बुरा मौसम वेव को तोड़ सकते है.

लेकिन अगर सिग्नल आने बंद हो जाएंगे और काम रुक जाएगा.अभी तो नहीं आया है. लेकिन उसकी तैयारी ज़रूर चल रही है. जैसे कपड़े खरीदने से पहले उन्हें ट्राई करना पड़ता है उसी तरह 5जी को भी ट्राई किया जाने वाला है.

दरअसल #1 5G के लिए एक अलग स्पैक्ट्रम बनाने की कोशिश की जा रही है. जिसकी लिमिट 25 GHz से 28 GHz हो सकती है. GHz को गीगाहर्ट्ज बोला जाता है.

जहां स्पैक्ट्रम और गीगाहर्ट्ज का मतलब समझना थोड़ा मुश्किल है और इसलिए हमने भी इसमें दिमाग नहीं लगाया है. सिंपल भाषा में समझने के लिए इसे वेव की सड़क समझा जा सकता है जो कि दिखाई नहीं देती है.

 

 

=>
LIVE TV