नकली बीज, खाद, कीटनाशक दवाओं के विक्रेताओं पर नकेल कसने के आदेश

मैगलगंज खीरी – एक ओर जहां सरकार किसानों की खुशहाली के लिए ढेरों सारी योजनायें दे रही है किसानों की फसल के लिए खाद पानी के साथ कीटनाशक दवाओं को मुहैया करने के लिए समितियों का निर्माण कर रही है नकली बीज, खाद, कीटनाशक दवाओं के विक्रेताओं पर नकेल कसने के आदेश दिए है
लेकिन कस्बा मैगलगंज, औरंगाबाद, फत्तेपुर मे पेस्टीसाइड दुकानदारों  पर कृषि विभाग के अधिकारी इस कदर मेहरबान है कि नकली खाद, बीज,  कीटनाशक, दवाइयों की बिक्री करनें वाले वगैर लाइसेंस की पेस्टीसाइड दुकानों पर रोक लगानें मे नाकाम साबित हो रहे हैं।
कस्बा मैगलगंज , औरंगाबाद, फत्तेपुर मे चंद गिने चुने खाद व कीटनाशक व्यापारी अनेको ब्रांडेड कंपनीयो की नकली दवा व  नकली खाद  को असली बना कर पूरे दामो मे बेच कर किसानो की फसलों के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं |  सूत्रो की माने तो  कोराजीन नाम की दवा की खाली शीशियां कुछ दुकानदार  किसानों को रूपये देकर  खरीद लेते हैं । फिर उन्ही शीशियों मे नकली तैयार की गई कोराजीन दवाई पैक कर  असली दामों मे किसानो को बेच देते है
एक पेस्टीसाइड दुकानदार ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि
कई दुकानदार घर पर ही नकली रिजेंट तैयार कर उसकी पैकिंग कर बाजार मे खुलेआम बेचते हैं। यही नहीं डीएपी व एनपीके उर्वरक की  नकल कस्बा मैगलगंज मे खुले आम बिक्री की जाती  है ।
किसानों का कहना है कि समितियों मे खाद, कीटनाशक दवाओं का टोंटा लगा रहता है जब किसानों को खाद कीटनाशक दवाओं की जरूरत पडती है तो समितियों मे नहीं मिल पाती हैं मजबूरन हम किसानों को बाजार से कीटनाशक व खाद लेना पडता है।
यह सब जानते हुए भी कृषि विभाग के आलाधिकारी मौन धारण किए हुए हैं। स्थानीय प्रसाशन के साथ साथ जिला प्रसाशन भी इन वगैर लाइसेंस की पेस्टीसाइड  दुकानों पर नकेल कसने मे असफल साबित हो रही है।

जब इस संबन्ध मे जिला कृषि अधिकारी से बात की तो उन्होने बताया कि यदि नकली खाद या कीटनाशक कोई भी पेस्टीसाइट दुकानदार बेच रहा है तो सर्वे कराकर व सैंपल भरकर उसकी जांच की जाएगी  यदि सैंपल मे नकली माल साबित हुआ तो कार्रवाई की जाएगी। पेस्टीसाइड दुकानदारों के लाइसेंस नहीं हैं तो उन पर भी कार्रवाई की जाएगी।

=>
LIVE TV