नजीर 25 की उम्र में बन गईं पुलिस कप्तान

  • exclusiveझांसी में बतौर एसपी तैनात हैं गरीमा सिंह
  • युवाओं व् युवतियों के लिए बनी नजीर,बलिया जिले की हैं रहने वाली

बलिया। कहते हैं की दृढ़ निश्चय और लगन से हर कामयाबी आपके कदम चूमती हैं। इन्हीं शब्दों को चरितार्थ करती हैं। बलिया जिले की रहने वाली झांसी में बतौर पुलिस कप्तान तैनात आईपीएस गरिमा सिंह ने। महज 25 साल की उम्र में गरिमा आईपीएस आफिसर बन गई थीं।।
आईपीएस आफिसर गरीबों ने सबसे तेज न्यूज से अपने कुछ अभिनव साक्षा करते हुए बताया ‌कि बात उन दिनों की है जब मैंदिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर रहीं थीं। गरिमा बताती हैं, “डीयू में पढाई के दौरान मैं एक मॉल से रात में दोस्तों के साथ होस्टल लौट रही थी। रात ज्यादा हो चुकी थी। तभी चेकिंग के लिए तैनात पुलिसवाले ने हमारा रिक्शा रोक लिया। रात में कहां से आ रही हो, कहां जाना है जैसे सवाल पूछने के बाद पुलिस वाले ने हमसे 100 रुपए मांगे। जब हमने मना किया तो मेरे पापा को फोन कर रात में घूमने की शिकायत करने की धमकी देने लगा। थोड़ी बहस के बाद पुलिस वाले ने उन्हें जाने तो दिया, लेकिन इस वाक्ये ने गरिमा के मन में पुलिस के प्रति नेगेटिविटी भर दी।

पहली बार में मिली सफलता
आईपीएस गरिमा सिंह वे बलिया जिले के गांव कथौली की रहने वाली हैं। गरिमा का सपना हमेशा से आईपीएस बनने का नहीं था, वो एमबीबीएस की पढ़ाई कर डॉक्टर बनना चाहती थीं। गरिमा बताती हैं, “मेरे पापा ओमकार नाथ सिंह पेशे से इंजीनियर हैं। वे चाहते थे कि मैं सिविल सर्विसेज में जाऊं। सिर्फ उनके कहने पर मैंने तैयारी शुरू की। गरिमा ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के सेंट स्टीफन कॉलेज से बीए और एमए (हिस्ट्री) की पढ़ाई की है। उन्होंने पहली बार 2012 में सिविल सर्विसेज का एग्जाम दिया था और तभी उनका सिलेक्शन आईपीएस में हो गया।

=>
LIVE TV