हुआ खुलासा , नोट देकर दलितों की उंगली लगाई स्याही, BJP वर्कर्स पर आरोप…

नई दिल्ली :  चुनाव में अपने पक्ष में वोट देने के लिए वोटरों को खरीदने के मामले तो अक्सर सामने आते रहे हैं, लेकिन वोट न देने के लिए पैसे बांटे जाने का मामला शायद ही पहले सुना हो।  जहां लोकसभा चुनाव 2019 के अंतिम चरण के लिए आज मतदान हो रहा है। लेकिन इससे पहले ही एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है।  लेकिन दलितों की उंगली पर वोट देने से पहले ही स्याही लगा दी गई हैं। जहां इसके साथ ही उन्हें पैसे भी दिए गए हैं।

 

चुनाव

 

 

बता दें की मामला उत्तर प्रदेश के चंदौली लोकसभा सीट का है. जहां वोट न देने के लिए नोट बांटने का मामला सामने आया है. चंदौली लोकसभा के ताराजीवनपुर गांव में दलित बस्ती के लोगों ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर वोट न देने के लिए पैसे बांटने का आरोप लगाया है।

जानिए मेडिक्लेम पॉलिसी की तरह अब कभी भी काम आएगा बैंक में रखा ब्लड…

लेकिन दलित बस्ती के लोगों ने सत्ताधारी दल पर आरोप लगाया है कि वोट न देने के लिए उनको न सिर्फ पैसे दिए गए बल्कि उनकी उंगलियों पर चुनाव में इस्तेमाल की जानी वाली स्याही भी लगा दी गई ताकि वो वोट न दे सके। जहां लोगों का आरोप है कि मतदाताओं को 500-500 रुपए दिए गए और वोट न देने के लिए कहा गया हैं।

 

दरअसल उधर नोट बांट कर वोट न देने का मामला जैसे ही सामने आया तो सकलडीहा विधानसभा के समाजवादी पार्टी के विधायक प्रभु नारायण सिंह यादव और समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी डॉ. संजय चौहान सहित दर्जनों की संख्या में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता चंदौली जिले के अलीनगर थाने में पहुंच गए और थाने का घेराव करते हुए धरने पर बैठ गए हैं।

वहीं समाजवादी पार्टी के नेता और कार्यकर्ता इस बात की मांग कर रहे थे कि जिन लोगों ने पैसा देकर मताधिकार के प्रयोग को रोकने की कोशिश की उन पर कार्रवाई की जाए. उधर जिला प्रशासन ने मामले की जांच कर कार्यवाही की बात कही है। लेकिन  इस मामले में पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। वहीं चंदौली लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय चुनाव मैदान में हैं । वही समाजवादी पार्टी ने डॉ. संजय चौहान को अपना उम्मीदवार बनाया है।

 

 

 

 

 

=>
LIVE TV