प्रेरक प्रसंग-हाथी और रस्सी की कहानी

एक बार एक व्यक्ति शहर में रास्ते पर चलते हुए जा रहा था। अचानक ही वह एक सर्कस के बाहर रुक गया और वहां रस्सी से बंधे हुए एक हाथी को देखने लगा। वह सोच रहा था कि जो हाथी जाली, मोटे चेन या कड़ी को भी तोड़ देने की शक्ति रखता है वह एक साधारण रस्सी से बंधे होने पर भी कुछ नहीं कर रहा है।

हाथी और रस्सी की कहानी

उस व्यक्ति ने देखा कि हाथी के पास में एक ट्रेनर खड़ा था। उस व्यक्ति ने ट्रेनर से पूछा कि यह हाथी अपनी जगह से इधर उधर क्यों नहीं भागता या रस्सी क्यों नहीं तोड़ता है?

उसने जवाब दिया कि जब यह हाथी छोटा था तब भी हम इसी रस्सी से इसे बांधते थे। जब यह हाथी छोटा था तब यह बार बार इस रस्सी को तोड़ने की कोशिश करता था पर कभी तोड़ नहीं पाया और बार बार कोशिश करने के कारण हाथी को यह विश्वास हो गया कि रस्सी को तोड़ना असंभव है।

ट्रेनर ने कहा कि आज वह रस्सी को तोड़ने की ताकत रखता फिर भी वह याह सोच कर कोशिश भी नहीं कर रहा है कि पूरे जीवन में इस रस्सी को तोड़ नहीं पाया तो आब क्या तोड़ पाउँगा।

ट्रेनर की इस बात को गहराई से समझें तो पता चलता है कि उस हाथी की तरह हममे से भी कई लोग ऐसे हैं जो अपने जिंदगी में कोशिश करना छोड़ चुके हैं क्योंकि बस वह पहले से ही बार बार कोशिश करने पर असफलता प्राप्त कर चुके होते हैं। उन्हें बार बार कोशिश करते रहना चाहिए।

=>
LIVE TV