सीएमओ डा. विनीत कुमार शुक्ला ने मांगी माफी, कहा- भूल से शामिल हुए मृतकों की सूची में जिंदा के नाम

कोरोना संक्रमण काल में हर कोई परेशानी से जूझ रहा है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही और छोटी बड़ी भूल से भी लोगों की परेशानी और बढ़ जाती है। कभी निगेटिव लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव बना दी जाती है तो कभी जीवित संक्रमित लोगों के नाम मृतकों की सूची में दर्ज कर दिए जाते हैँ। जिन जीवित लोगों के नाम मृतकों की सूची में दर्ज किए, उनके परिजन परेशान हुए तो दैनिक जागरण ने इसे प्रमुखता से प्रकाशित किया था। अब इसे भूल मानते हुए सीएमओ ने शासन को पत्र भेजा और जीवित लोगों के नाम मृतकों की सूची से हटवाए।

जुलाई माह में जब संक्रमण अपनी चरम सीमा पर था और हर रोज सैकड़ों लोग संक्रमित मिल रहे थे। उस दौरान ही मृतकों की संख्या में भी इजाफा हुआ था। इस दौरान शासन को जानकारी उपलब्ध कराए जाने वाले यूपी कोविड-19 पोर्टल पर शहर के चार जीवित लोग जो संक्रमित थे, उनके नाम मृतकों की सूची में दर्ज कर दिए गए थे। मृतकों की सूची में नाम दर्ज होने के बाद जब उनके स्वजनों से सपंर्क किया गया तो तो वह विफर पड़े थे। उन्होंने बताया था कि जिनके संबंध में जानकारी मांगी जा रही है वह जीवित हैं।

जानकारी करने पर पता चला था कि एक नाम के दो लोगों के होने के चलते यह चूक हुई थी। ऐसे में परेशान परिजनों से दैनिक जागरण ने बात की और उनकी परेशानी को प्रमुखता से प्रकाशित किया। लगातार समाचारीय अभियान चलाकर विभाग तक जानकारी पहुंचाई। इसके बाद सीएमओ डा. विनीत कुमार शुक्ला ने इस संबंध में प्रदेश सर्विलांस अधिकारी को पत्र लिख कर बताया कि चार जीवित लोगों के नाम भूलवश मृतकों की सूची में चढ़ गए है। उन्हें पोर्टल से हटा दिया जाए।इसके बाद चारों मृतकों के नाम पोर्टल से हटा दिए गए हैं।

कुछ जीवित लोगों के नाम भूलवश पोर्टल पर चढ़ गए थे। प्रदेश सर्विलांस अधिकारी को पत्र लिखकर इसकी जानकारी दी गई, इसके बाद वह नाम पोर्टल से हटा दिए गए हैं। यह चूक एक जैसे नाम होने के चलते हुई थी। इसके संबंध में आपरेटरों को सावधानी से कार्य करने के लिए कहा गया है। – डा. विनीत कुमार शुक्ला, सीएमओ 

=>
LIVE TV