exclusive: तंजील हत्याकांड का बड़ा खुलासा: सहसपुर के हिस्ट्रीशीटर मुनीर ने की थी तंजील की हत्या

विधान केसरी

download (2)एनआईए अफसर तंजील अहमद की निर्ममतापूर्वक की गई हत्या के प्रकरण से पुलिस में पर्दा उठा दिया।पुलिस का दावा है की इस जाबांज अफसर की जान सहसपुर के एक ही एक हिस्ट्रीशीटर मुनीर ने अपने साथियों के साथ मिलकर ली थी। सहसपुर के एक पैट्रोल पम्प पर लगे सीसिटीवी की फुटेज से हत्यारो की शिनाख्त की गई है। हत्याकांड के खुलासे से ये भी साफ हो गया है कि इस हत्याकांड की वजह कोई आतंकी संगठन नही बल्कि आपसी रंजिश थी।
पुलिस ने सहसपुर और बरेली से मुनीर के साथियो को गिरफ्तार किया है और हत्या में प्रयोग की गई बीके भी बरामद कर ली है। हालांकि अभी मुनीर पुलिस के हत्थे नही चढ़ा। उसके साथियो से पूछताछ जारी है।
मामला खुलने के बाद बुधवार को आधी रात तक आईजी, डीआईजी और एनआईए व एसटीएफ के आला अफसर बिजनौर में डटे थे और घटनाक्रम की कड़ियां जोड़ने में जुटे थे।
पुलिस पूछताछ में मुनीर के साथियों ने घटना का खुलासा कर दिया है। सूत्रों का कहना है कि तंजील पर गोलियां सहसपुर के हिस्ट्रीशीटर मुनीर और यहीं के उसके साथी ने बरसाई थीं। बिजनौर के स्योहारा थाने की एक पुलिस चौकी पर देर रात तक आईजी विजय सिंह मीणा, डीआईजी ओंकार सिंह और एसटीएफ व एनआईए के आला अफसर मुनीर के चार साथियों से पूछताछ कर रहे थे। हालांकि पुलिस सूत्रों का कहना है कि हत्या में केवल मुनीर और उसका साथी शामिल थे।
आज (गुरूवार) इस मामले का खुलासा पूरी तरह कर दिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि बिजनौर के सहसपुर गांव में शनिवार की रात एनआईए के डिप्टी एसपी मो. तंजील अहमद की गोलियों से भून कर हत्या कर गई थी। पुलिस के हत्थे चढ़े शुटरों ने पुलिस को बताया कि वो एनआईए अफसर मो. तंजील अहमद की हत्या की साजिश लंबे समय से रच रहे थे। पर जब वोंकाभि सहसपुर आते तो उनके आने की जानकारी उन्हें नही लग पाती थी। लेकिन इस बार ये हत्यारे तंजील की भांजी की शादी के कारण अपने मंसूबो में कामयाब हो गए। पहले भी उन्हें मौत के घाट उतारने की प्लानिंग की गई थी। पुलिस का कहना है कि मुनीर अलीगढ़ में भी दो हत्याओ को अंजाम दे चूका है। इन दो घटनाओं के अलावा भी उसने कई हत्याएं की थीं। सूत्रों की माने तो हिस्ट्रीशीटर दिल्ली के ओखला में भी लंबे समय तक रहा। इस इलाके में ही तंजील अहमद अपने परिवार के साथ रहते थे।
शादी समारोह के वीडियो और स्कूल के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से पुलिस को सफलता नहीं मिली तो पुलिस ने एक पेट्रोल पंप के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज देखी। जिसमें बाइक सवार दो लोगों को पहचान लिया गया। इसके अलावा भी वह लगातार इलाके में घूम रहा था। घटना वाली रात भी वह इलाके में ही घूमता देखा गया था।
एटीएस और पुलिस के हत्थे चढ़े शूटरों के साथियों की तलाश में बुधवार को पुलिस ने मुरादाबाद, संभल, बरेली, रामपुर और चांदपुर, नूरपुर और मेरठ में भी दबिश।
नेशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी के अफसर तंजील अहमद की हत्या करने वाले गिरोह में एक महिला के भी शामिल होने की बात सामने आई है। और ये महिला शादी में भी शामिल हुई थी। शूटरों ने महिला का नाम भी पुलिस को बता दिया। महिला घटना वाले दिन से ही फरार है।पुलिस ने दो शूटर पकड़ लिए हैं। लेकिन एटीएस और लोकल पुलिस अन्य आरोपियों की तलाश में ताबड़ तोड़ छापे मार रही है।

=>
LIVE TV