शनिवार रात कुमाऊं के अनेक स्थानों पर हुई हल्की बारिश, जानें आज कैसा रहेगा मौसम

कुमाऊं में मौसम का मिलाजुला मिजाज बना हुआ है। शनिवार रात कुमाऊं के अनेक स्थानों पर हल्की बारिश हुई। रविवार सुबह भी कई इलाकों में बादल छाए हुए हैं। पर्वतीय इलाकों में ठंडी हवाएं मौसम में रंगत घोल रही हैं। अल्मोड़ा जिले में शनिवार रात रुक रुक कर बारिश होती रही सुबह आसमान में घने बादल छाए हैं। हल्द्वानी और नैनीताल में रात को गरज के साथ बारिश हुई। नैनीताल में सुबह घने बादल छाए हैं। पिथौरागढ़ और बागेश्वर जिले के ऊंचाई वाले इलाकों में अभी रात को बारिश हुई। रुद्रपुर समेत समूचे तराई में आंशिक बारे में कुछ और मौसम साफ बना हुआ है। मौसम विभाग ने रविवार को बागेश्वर,चम्पावत, पिथौरागढ़ और नैनीताल जिलों में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश या गरज के साथ वर्षा होने की संभावना जताई है। मौसम विभाग के मुताबिक एक सितंबर तक कुमाऊं में भारी बारिश के आसार नहीं हैं।

बागेश्वर में बारिश से सात सड़कें आवागमन के लिए बंद

बागेश्वर जिले में बारिश से सात सड़कें आवागमन के लिए बंद हैं। भूस्खलन होने से सड़कों पर लगातार बोल्डर और मलबा गिर रहा है। जिसससे करीब दस हजार लोग प्रभावित हो गए हैं। शनिवार को सुबह आसमान में बादल छाए रहे। दिन में कुछ समय के लिए धूप निकली और शाम होते-होते फिर बादल घिर आए। जिससे बारिश की आशंका बनी हुई है। जिले में रुक-रुक कर हो रही बारिश से भूस्खलन का खतरा बढ़ गया है। जिससे सनगाड़-बास्ती, दोफाड़-पपों-रताइस, धपोली-जेठाई, हवील-कुलवान, कपकोट-कर्मी-तोली, धरमघर-माजखेत, रौल्यना-लोहागढ़ी समेत सात मोटर मार्ग आवागन के लिए बंद हो गए है। जिससे ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को आवाजाही में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लोग दस किमी तक पैदल चलने को मजबूर हैं। वहीं, बारिश से ग्रामीण क्षेत्रों में भूस्खलन होने से लोग भयभीत हो गए हैं। पिछले 24 घंटे में गरुड़ में 2.50 और कपकोट में 15 एमएम बारिश रिकार्ड की गई। जिससे सरयू नदी में सिल्ट आने से पंपिंग योजनाएं प्रभावित हो गईं हैं।

=>
LIVE TV