शटआउट वायरस : क्या सच में कोरोना के कहर से बचा रहे हैं यह आईकार्ड

कोरोना वायरस का प्रकोप लगातार बढ़ता ही जा रही है। वहीं इसी बीच कोरोना वायरस से बचाव को लेकर कई उत्पाद बाजारों में अपनी जगह बनाने में लगे हुए हैं। आपदा को अवसर में बदलने में लगे इन उत्पादों को जनता भी हाथों हाथ ले रही है। जनता कोरोना से बचाव के लिए किसी भी उत्पाद को खरीदने के लिए कोई भी कीमत चुकाने को तैयार है। इसी कड़ी में इस समय बाजारों में बैक्टीरिया को दूर रखने वाले शटआउट कार्ड भी लोगों की पहली पसंद बने हुए हैं। हालांकि इसकी प्रमाणिकता को लेकर सभी खाली हाथ ही हैं। सिर्फ बॉयकाट चीन और जापान की कंपनी के नाम पर इसकी बिक्री हो रही है और लगे इसे गले में डाल कर घूम रहे हैं।

बाजारों में इन दिनों इन कार्ड को अलग-अलग नामों से बेचा जा रहा है। वहीं इनकी बिक्री भी खूब हो रही है। हर दूसरा आदमी इन कार्ड को पाने के लिए कोई भी कीमत चुकाने को तैयार है। हालांकि इसकी प्रमाणिकता को लेकर तमाम डॉक्टरों का यह कहना है कि यह विश्वसनीय नहीं हैं। वहीं कंपनी का दावा है कि इस कार्ड को क्लोरीन डाइऑक्साइड मॉलिक्यूल की मदद से बनाया गया है जो बैक्टीरिया और वायरस को व्यक्ति से दूर रखता है। अलग-अलग कंपनियों के कार्ड को हफ्ते से लेकर 60 दिनों तक इस्तेमाल के तथ्य भी बताए जा रहे हैं। फिलहाल इन 200 रुपये से लेकर 3000 रुपये तक की कीमत वाले कार्ड को लेग जेब, कॉलर की क्लिप या गले में डालकर घूम रहे हैं और खुद के लिए फायदेमंद बता रहे हैं।

=>
LIVE TV