लापरवाही के चलते वीडीओ व दो सफाई कर्मचारी हुए निलंबित

जनपद के नोडल व परिवहन आयुक्त धीरज साहू ने शनिवार को माधौगढ़ ब्लाक के ग्राम मिर्जापुरा का औचक निरीक्षण किया। गांव में पसरी गंदगी देख उन्होंने ग्राम विकास अधिकारी (वीडीओ) व दो सफाई कर्मचारी निलंबित कर दिए। वहीं खंड विकास अधिकारी (बीडीओ) से नाराजगी जताई।

शनिवार को नोडल अधिकारी धीरद साहू, डीएम डॉ. मन्नान अख्तर, सीडीओ प्रशांत कुमार श्रीवास्तव के साथ ग्राम मिर्जापुरा का निरीक्षण करने के लिए पहुंचे। गांव में नालियां भरी हुईं थीं। जगह-जगह गंदगी के ढेर लगे देखे। गुस्साते हुए बीडीओ दीपक कुमार से कहा कि ठीक से ध्यान नहीं दिया जा रहा। वीडीओ शैलेष सोनकर को कड़ी फटकार लगाई। सीडीओ को वीडीओ व दोनों सफाई कर्मचारियों को निलंबित करने के निर्देश दिए।

नोडल अधिकारी ने आंगनबाड़ी रेखा बाथम, आशा रामसखी से गांव में जांच के बारे में पूछताछ की। आंगनबाड़ी कार्यकत्री ने जब उन्हें बताया कि महाराष्ट्र से आए एक मजदूर को शुगर है तो वह उसके घर चले गए। प्रवासी मजदूर कमल दोहरे पुत्र प्रभूदयाल से जानकारी ली। बीडीओ दीपक कुमार से साफ सफाई के बाद मनरेगा में प्रवासी मजदूरों को काम के बारे में पूछा। इस दौरान सीडीओ, सीएमओ, एसडीएम सालिकराम, एडीओ पंचायत छेदालाल, पचांयत मित्र विवेक कुमार, डॉ. विनोद राजपूत, संदीप दिवाकर, गुलाब कुशवाहा कोतवाल सुनील कुमार सिंह आदि मौजूद रहे। अस्पताल की व्यवस्थाएं रखें चाक चौबंद

नोडल अधिकारी व डीएम ने टीम के साथ सीएचसी का निरीक्षण किया। अधिकारियों ने कोविड हेल्थ डेस्क, प्रसव कक्ष, वार्ड रूम, दवा वितरण कक्ष, एक्स-रे रूम का निरीक्षण किया। सीएचसी प्रभारी डॉ. विनोद राजपूत को कोरोना की जांच में लापरवाही न किए जाने के निर्देश दिए। कोविड हेल्थ डेस्क प्रभारी डॉ. प्रियंका ने बताया कि 33 लोगों के सैंपल लिए गए हैं। थर्मल स्क्रीनिंग प्रभारी सर्वेश ने 156 लोगों की स्क्रीनिंग की बात बताई। नोडल अधिकारी ने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं में किसी तरह की लापरवाही न की जाए।

=>
LIVE TV