Saturday , March 25 2017 [dms]

बिना प्रशासन को भनक लगे लखनऊ महोत्सव में लग गया मौत का कुआं

लखनऊ महोत्सव में मौतलखनऊ। राजधानी में लखनऊ महोत्सव का आगाज हो चुका है। लेकिन इस बार इस महोत्सव में मौत के खेल का भी इंतजाम किया गया। हैरानी की बात है कि लखनऊ महोत्सव में मौत का कुआं लगाने की अनुमति किसने दी और आखिर इसे किसने लगवाया इस बात की जानकारी नहीं हो पाई है। मामले का संज्ञान लेते हुए अपर जिलाधिकारी पूर्वी वीरेंद्र पांडेय ने बताया कि ‘मौत का कुंआ’ महोत्सव में लगा है इसकी उन्हें जानकारी ही नहीं थी।

लखनऊ महोत्सव में मौत का कुआं

उन्होंने कहा इसे लगाने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी। मेले में केवल बड़े झूलों की परमीशन ली गई थी। इसमें अधिकारियों की जरूर मिलीभगत होगी जांच करवाकर उनपर भी कार्रवाई की जायेगी।

उन्होंने कहा कि खुशी के मेले में मौत का खेल करने वाले बख्शे नहीं जायेंगे, यह तो नाम लेने से ही डरावना लगता है।

पिछली बार तत्कालीन जिला अधिकारी राज शेखर ने मौत का कुंआ लगने की इजाजत नहीं दी थी। इस बार उसी महोत्सव में मौत के इंतजाम भी किये गए हैं।

पिछले साल तत्कालीन जिलाधिकारी राजशेखर ने बताया था कि महोत्सव में मौत का कुंआ, आग लगाकर कूदना, जीप, मोटर साइकिल, आग आदि का खेल वर्जित है।

बताया जा रहा है शासन ने इसकी लिखित तौर पर परमीशन नहीं दी है लेकिन आयोजक अधिकारियों से की मिलीभगत से बिना परमीशन के मौत का कुंआ लगवाया जा रहा है। इतना ही नहीं इस कुएं में तमाशे के लिए खटारा बाइक और कार भी आईं हैं।

ख़बरों के मुताबिक़ मौत के कुंए को लेकर जब जिम्मेदार अधिकारियों में जिलाधिकारी सतेंद्र सिंह को फोन किया गया तो उनका फोन नहीं उठा।

जब इस सम्बन्ध में लखनऊ महोत्सव की जिम्मेदारी देख रहीं एडीएम पूर्वी निधि श्रीवास्तव के पास फोन किया गया उनका फोन नहीं उठा।

इतना ही नहीं उनके लैंडलाइन नंबर पर भी फोन किया गया वह भी दो बार नहीं रिसीव हुआ।

अब सवाल उठता है कि अगर किसी आपातकाल स्थिति में कोई मदद के लिए इन लापरवाह अधिकारियों के पास फोन करे तो इनका तो फोन नहीं उठेगा ऐसे में लोग किससे मदद मांगेंगे?

वैसे तो उत्तर प्रदेश सरकार तमाम माध्यमों से यूपी टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए खूब प्रचार कर रही है।

लेकिन पर्यटन विभाग की हकीकत यह है कि अगर कोई जानकारी लेने के लिए पर्यटन विभाग की वेबसाईट पर दिए नंबरों पर संपर्क करे तो यह उसकी सबसे बड़ी भूल होगी। कारण यह है कि यहां दिए गए नंबर पर कभी कॉल रिसीव नहीं होती है।

One comment

  1. GIRIJA SHANKER JAISWAL

    RAHUL GANDHI FAILURE PERSON AND UNKNOWN POLITICIAN ………….COMMENT WRONGLY DISCUS

LIVE TV