लखनऊ एक्सप्रेस वे की जमीनों की खरीद की फिर से खुलेगी फाइल, पढ़े पूरी खबर

लखनऊ एक्सप्रेस वे की जमीनों की खरीद की फिर से फाइल खुलने जा रही है। उप्र एक्सप्रेसवेज औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अवनीश कुमार अवस्थी ने डीएम से रिपोर्ट मांगी है। जमीनों में हुए खेल को लेकर कई किसानों ने कोर्ट का दरवाजा भी खटकाया है। किसानों ने कई खसरा नंबर में अधिक जमीन खरीद और खसरा नंबर बदलने की शिकायत की है। आगरा से लखनऊ को जोड़ने के लिए देश का सबसे बड़ा एक्सप्रेस वे का निर्माण सपा शासनकाल में हुआ था। इसमें तहसील सदर और फतेहाबाद की 250 हेक्टेअर जमीन की खरीद हुई है। लखनऊ एक्सप्रेस वे में जमीन खरीद को लेकर पूर्व में भी आरोप लगते रहे हैं। सर्किट रेट से कहीं अधिक दर पर भुगतान किया गया। इसकी जांच भी हो चुकी है।

इन बिंदुओं की मांगी रिपोर्ट

– ग्राम नगला लोहिया, फतेहाबाद तहसील। गाटा संख्या 65, 1.37 हेक्टेअर है। राजस्व अभिलेख में सुल्तान सिंह के नाम दर्ज थी। इस गाटा संख्या 0.39 हेक्टेअर जमीन एक्सप्रेस वे के लिए ली गई।

– गाटा संख्या 65 की जमीन नक्शे पर कम अंकित है।

– गाटा संख्या 68 का रकबा तीन सौ वर्ग मीटर अधिक पाया गया।

– कई जमीनों के बैनामे या फिर पैमाइश के दौरान यूपीडा के अफसर मौजूद नहीं रहे।  

=>
LIVE TV