फजीहत से परेशान विजय माल्या अब राज्यसभा से भागे

नई दिल्ली। राज्यसभा में माल्या के दिन खत्म हो गए हैं। नौ हजार करोड़ का लोन लेकर भागे विजय माल्या ने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया है। शराब कारोबारी और सांसद माल्या ने राज्यसभा के सभापति हामिद अंसारी को खत लिखकर यह सूचना दी है। माल्या इन दिनों लंदन में हैं। भारत में बैंक डिफॉल्टर घोषित किए जाने के बाद विजय माल्या लंदन भाग गए थे। बैंकों और जांच एजेंसियाें से बचने के लिए भारत न आने के कारण उनकी काफी फजीहत हो रही थी। इसी आधार पर राज्यसभा की एथिक्स कमेटी उनके निष्कासन की सिफारिश पर एकमत थी।

राज्यसभा में माल्या

राज्यसभा में माल्या के दिन खत्म

राज्यसभा के सभापति को लिखे इस्तीफे में माल्या ने कहा भारत में उनके नाम और छवि की काफी फजीहत हो रही है, इसलिए वह तत्काल प्रभाव से राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे रहे हैं। माल्या ने कहा, ‘हालिया घटनाक्रम से ऐसा लग रहा है कि मुझे न्याय नहीं मिलेगा। न ही मेरे मामले की निष्पक्ष सुनवाई होगी। इसी वजह से मैं इस्तीफा दे रहा हूं।’

यह राज्यसभा में माल्या का दूसरा कार्यकाल है और यह 1 जुलाई को समाप्त होने वाला था। इस मामले में राज्यसभा की एथिक्स कमेटी में 25 अप्रैैल को माल्या की सदस्यता खत्म करने पर सह‍मति बन गई थी। तीन मई को उन्हें‍ निष्‍कासित करने की सिफारिश की जानी थी।

60 साल के माल्या ने भारत में कई बैंकों से नौ हजार करोड़ रुपए लोन लिया है। इसी वह लौटा नहीं पा रहे। घाटे में चल रही माल्या की कंपनियां भी बंद होती जा रही हैं। इस‍ स्थिति को देखते हुए बैंकों ने माल्या से लोन का पैसा चुकानेे की मांग की थी। तमाम तारीखें बीतने के बाद भी माल्या ने एक पैसा नहीं लौटाया तो उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू हुई।

हालांकि इस कार्रवाई को विजय माल्या गलत ठहराते आ रहे हैं। बीते दिनों एक इंटरव्यू में विजय माल्या ने कहा था कि वह देशभक्त हैं। हमेशा भारतीय झंडे को ऊंचा रखने में गर्व महसूस करते हैं। लेकिन उनके खिलाफ जो माहौल बनाया जा रहे है, उसमें वह भारत नहीं लौट सकते हैंं।

बैंकों और प्रवर्तन निदेशालय के दबाव से बचने के लिए विजय माल्या 2 मार्च को लंदन भाग गए थे।

 

=>
LIVE TV