राजधानी में मिले कोरोना के 20 नए मामले, अब तक आ चुके 1245 केस,लखीमपुर में नौ, बाराबंकी में सात पॉजिटिव…

उत्तर प्रदेश सहित लखनऊ में कोरोना का प्रकोप दिनों दिन बढ़ रहा है। जुलाई माह में वायरस और आक्रामक दिख रहा है। रविवार को कोरोना के 20 मामले आए हैं जिसमें एक रिजर्व पुलिस लाइन से और शेष विभिन्न इलाकों से हैं। अब तक लखनऊ में 1245 केस आ चुके हैं। वहीं लखीमपुर में भी नौ लोग पॉजिटिव मिले हैं जिसमें से चार लोग एक ही परिवार के हैं व बाराबंकी में सात पॉजिटिव केस आए हैं। । 

खीरी में नौ पॉजिटिव मिले, चार मरीज एक ही परिवार के 

प्रशासन को शनिवार देर शाम 402 मरीजों की रिपोर्ट मिली, जिसमें नौ पॉजिटिव और 393 निगेटिव हैं। पहली पॉजिटिव बालिका पूर्व में संक्रमित पाई गई महिला की पुत्री है, जो शहर के मुहल्ला अमर विहार कॉलोनी की रहने वाली है  उसे वर्तमान में होम क्वारंटाइन किया गया है। शेष आठ पॉजिटिव मोहम्मदी के वार्ड नंबर 23 मुहल्ला सरैया के निवासी हैं। जिनमें चार एक मकान में रहते हैं। इनमें एक बालक, एक बालिका व दो महिला हैं। इसी मोहल्ले में पॉजिटिव पाए गए एक पुरुष व एक महिला अलग मकान में रहते हैं। सभी को जगसड स्थित  कोविद केयर सेंटर में भर्ती करा दिया गया है। डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि  अब तक जिले में कुल 126 पॉजिटिव केस मिल चुके हैं, जिनमें इलाज के बाद 107 पॉजिटिव व्यक्ति स्वस्थ होकर डिस्चार्ज कर दिए गए। वर्तमान में जिले में कुल 19 एक्टिव केस हैं।

बाराबंकी में सात केस 

बाराबंकी जिले में रविवार को सात कोरोना पॉजिटिव जांच में मिले। जिसमें से दो सिद्धौर, दो टिकैतनगर, दो देवा के रहने वाले हैं। एक केस निंदूरा ब्लॉक का है। 

लखनऊ में सीएमओ की टीम ने शुक्रवार को 460 संदिग्ध मरीजों के सैंपल संग्रह किए। इसमें 78 लोगों में वायरस की पुष्टि हुई है। संक्रमित मरीजों में 27 महिला व 51 पुरुष हैं। इसमें संक्रमित ग्राम्य विकास मंत्री मोती सिंह के घर के पांच लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई। वहीं 102एंबुलेंस कॉल सेंटर के 32, कुर्सी रोड का एक, कैंट रोड के चार, मोहान रोड के दो, इन्दिरानगर के तीन, चौक का एक, काजमैन के दो, हरिनगर के एक, विकासनगर का एक, अलीगंज का एक, सिग्नेचर बिल्डिंग का एक, मलिहाबाद में एक, देवीखेडा का एक, बनीकला का एक, सरोजनीनगर का एक, फैजाबाद रोड का एक, नरही का एक, कल्याणपुर का दो, गुडंबा के दो, एलडीए काॅलोनी के तीन, चंदरनगर के पांच, गायत्रीनगर के दो, अजयनगर के एक, राजाजीपुरम के एक, केजीएमयू के दो स्टाफ, गौतमपल्ली के पांच रोगी संक्रमित पाए गए हैं। वहीं राजाजीपुरम के तालकटोरा निवासी होम्योपैथिक चिकित्सक की केजीएमयू में मौत हो गई। एक साथ भारी तादाद में मरीजों के पाए जाने से इलाकों में हड़कंप मच गया। वहीं स्वास्थ्य विभाग के भी हाथ-पांव फूल गए हैं। इस दौरान 14 कंटेनमेंट जोन हटाए गए व16 नए बढ़ाए गए हैं।

कब-कब आए सर्वाधिक मरीज

शहर में 11 मार्च को कोरोना ने दस्तक दी। मार्च माह में 20 तारीख को सर्वाधिक चार केस रहे। वहीं अप्रैल माह में 18 तारीख को 56 केस सर्वाधिक रहे। ऐसे ही मई माह में 28 तारीख को 15 केस रिकॉर्ड रहे। जून में 16 तारीख को सबसे अधिक 66 मरीज एक दिन में आए। वहीं चार जुलाई को अब तक के सर्वाधिक केस 78 रहे। ऐसे में मरीजों की संख्या बढ़कर 1225 हो गई है।

55 रोगियों ने जीती कोरोना से जंग

कोरोना के संक्रमण से जीतने वालों की तादाद भी लगातार बढ़ रही है। शनिवार को एक दिन में 55 रोगियों को डिसचार्ज किया गया। इसमें केजीएमयू के पांच, एसजीपीजीआइ के चार, एलबीआरएन के छह, लोहिया से 13, आरएसएम के 25 व ईएसआई हॉस्पिटल से दो मरीजों को डिस्चार्ज कर दिया गया। वहीं 747 लोगों का सैंपल संग्रह क जांच के लिए भेजा गया। इसके अलावा क्षेत्रों में संक्रमण मुक्ति अभियान भी चला।

प्राइवेट कॉलेज शिफ्ट किए मरीज

सरकारी में लोहिया, साढ़ामऊ व लोकबंधु अस्पताल के 90 फीसद बेड शुक्रवार से फुल हैं। शनिवार को मरीज डिस्चार्ज होने के बाद कई और भर्ती किए गए। इसके बाद मरीजों को प्राइवेट मेडिकल कॉलेज शिफ्ट किया गया। शहर में 1500 के करीब इलाज के लिए बेड हैं। वहीं 4400 बेड कोविड केयर के लिए हैं। ऐसे में अभी बेड को लेकर कोई समस्या नहीं है।

=>
LIVE TV