योगी-“लोकतंत्र का मजाक है अल्पसंख्यक शब्द “

yogi-adityanath_56160925087bfएजेंसी/ नई दिल्ली : राष्ट्र विकास की राशि रोम से नहीं मिली है। यह भारत को दहेज में नहीं मिला है। इस धन को बड़े – बड़े चोरों के पाॅकेट से निकाला गया है। इस धन से 1 मई को बरेली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उज्जवला योजना का शुभारंभ करेंगे। सांसद योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लोकतंत्र में अल्पसंख्यक शब्द नहीं होना चाहिए। अल्पसंख्यक शब्द लोकतंत्र का मजाक है।

सांसद योगी आदित्यनाथ ने अन्य पार्टियों पर निशाना साधते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस की गलत नीतियों के चलते देश का मजाक बना। न तो समाजवाद देश का भला कर सकता है और न ही सांप्रदायिकता देशहित कर सकती है। इस तरह के शब्द आयातित है।

इन बातों से राष्ट्र का कल्याण भी नहीं हो सकता है। सांसद योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यदि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में लिंगदोह कमेटी की सिफिरिशों के आधार पर निर्वाचन न हुआ होता तो फिर कन्हैया कुमार छात्रसंघ के अध्यक्ष नहीं होते।

उन्होंने कहा कि भारत की धरती पर ही भारत के टुकड़े करने की बात की जाती है और तो और रामनवमी के अवसर पर महिषासुर का पूजन होता है। आखिर ऐसा क्यों किया जा रहा है। इस तरह की राजनीति फैलाना बंद किया जाना चाहिए। 

=>
LIVE TV