जगन्नाथ पुरी के मंदिर के रहस्य, जिन्हें जानकर आप रह जायेंगे दंग

एजेन्सी/  puri-temple-650_650x400_51437133246उड़ीसा (अब ओडिशा) की धार्मिक नगरी पुरी में भगवान जगन्नाथ, भगवान बलराम और देवी सुभद्रा का विश्व प्रसिद्ध मंदिर है। हिन्दू पंचांग के अनुसार यहां हर आषाढ़ महीने (जून-जुलाई) में विशाल रथयात्रा का भव्य आयोजन होता है।

इस रथ की रस्सियों खींचने और छूने मात्र के लिए पूरी दुनिया से श्रद्धालु यहां आते हैं, क्योंकि भगवान जगन्नाथ के भक्तों की मान्यता है कि इससे मोक्ष की प्राप्ति होती है।

ये तो हैं जगन्नाथ पूरी मंदिर से जुडी हुई मान्यताएं, जिसे आप मानें या न मानें यह आपकी आस्था और विश्वास पर निर्भर करता है।

लेकिन इस कृष्ण मंदिर से जुड़े कुछ ऐसे अनोखे तथ्य हैं, जिसे जानकार आप दंग रह जायेंगे कि क्या ऐसा भी होता है! वास्तव में यह मंदिर आस्था के साथ-साथ अपने इन रहस्यों के लिए भी प्रसिद्ध है।

ये हैं जगन्नाथ मंदिर के रहस्य
— इस मंदिर के ऊपर फहराता हुआ ध्वज हमेशा हवा के विपरीत दिशा लहराता है।
— पुरी के हर मंदिर के शीर्ष पर सुदर्शन चक्र ही मिलता है। यह परंपरा का रहस्य किसी को नहीं पता है।
— कहते हैं कि जगन्नाथ मंदिर के ऊपर कोई चि़ड़िया भी नहीं उड़ती है।
— इस मंदिर के ऊपर से हवाई जहाज या हेलिकॉप्टर उड़ाना निषिद्ध है।
— इस मंदिर के शिखर की छाया सदैव अदृश्य रहती है।
— कहते हैं मंदिर की रसोई घर में कभी भोजन की कमी नहीं होती है, चाहे कितने ही श्रद्धालु यहां भोजन करें।

=>
LIVE TV