मुकेश साहब के जन्मदिन पर जानें उनके जीवन से जुड़े कुछ रोचक किस्से, जिससे मिली उनकी आवाज को पहचान

हिंदी सिनेमा के मशहूर सिंगर मुकेश का आज यानि 22 जुलाई को हुआ था। मिश्री घोल देने वाले उनके मधुर गीत और सुरीली आवाज आज भी लोगों के दिलों दिमाग को सुकून दे जाती है। मुकेश आज भी संगीत प्रेमियों के दिल पर राज करते हैं । मुकेश ने राजकपूर के लिए ‘दोस्त-दोस्त न रहा’, ‘जीना यहां मरना यहां’, ‘कहता है जोकर’, ‘दुनिया बनाने वाले क्या तेरे मन में समाई’, ‘आवारा हूं’ और ‘मेरा जूता है जापानी’ जैसे सुपर हिट गाने गाए हैं। जिससे वह राज कपूर की आवाज कहे जाने लगें| मुकेश न केवल भारत में बल्कि विदेशों में भी काफी मशहूर रहे हैं।

मुकेश साहब के जन्मदिन पर जानें उनके जीवन से जुड़े कुछ रोचक किस्से, जिससे मिली उनकी आवाज को पहचान

मुकेश का अपना ही एक अलग सिंगिंग स्टाइल था जिसके सभी कायल थे। सिंगिग के अलावा मुकेश अपनी निजी जिंदगी में बहुतों की मदद करने के लिए भी जाने जाते थे।

सिंगर मुकेश ने अपने मधुर गीतों और सुरीली आवाज से इंडस्ट्री में खास पहचान बनाई थी. वे 60-70 के दशक की त्रिमूर्ति में शामिल थे जिसके बाकी दो सिंगर थे किशोर और रफी. मुकेश साहब के जन्मदिन पर बता रहे हैं उनके जीवन से जुड़े कुछ रोचक किस्से.

पुलिस से बचने के लिए गंदे नाले में कूदा बदमाश, पुलिस ने भी किया ये काम…

सिंगर मुकेश का जन्म 22 जुलाई, 1923 को लुधियाना के जोरावर चंद माथुर और चांद रानी के घर हुआ था. अपने मधुर गीतों और सुरीली आवाज से उन्होंने इंडस्ट्री में खास पहचान बनाई. वे 60-70 के दशक की त्रिमूर्ति में शामिल थे जिसके बाकी दो सिंगर थे किशोर और रफी. मुकेश साहब के जन्मदिन पर बता रहे हैं उनके जीवन से जुड़े कुछ रोचक किस्से.

ऐसे मिला फिल्मों में गाने का मौका

उनकी बड़ी बहन संगीत की शिक्षा लेती थीं और मुकेश बड़े चाव से उन्हें सुना करते थे. उनके एक दूर के रिश्तेदार थे मशहूर अभिनेता मोतीलाल. मोतीलाल का योगदान मुकेश के फिल्मीं करियर को बनाने में उल्लेखनीय रहा.

मुकेश अपनी बहन की शादी में गाना गा रहे थे. इस कार्यक्रम में मोतीलाल भी थे. मोतीलाल को मुकेश की आवाज ने प्रभावित किया. मोतीलाल उन्हें मुंबई ले गए. वहीं अपने घर में रहने की जगह दी. साथ ही मुकेश के लिए संगीत रियाज का पूरा इंतजाम किया.

कहीं दूर जब दिन ढल जाए, किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार’, ‘सजन रे झूठ मत बोलो’, ‘मेरा जूता है जापानी’, ‘दोस्त दोस्त ना रहा’ और एक प्यार का नगमा है जैसे सुपरहिट गाने मुकेश ने गाए हैं जो आज भी काफी मशहूर हैं.

मुकेश ने राज कपूर की इतनी फिल्मों में गाने गए कि उन्हें राज कपूर की आवाज के नाम से जाना जाने लगा. राज कपूर को जब उनकी मौत की खबर मिली तो उनके मुंह से आवाज भी नहीं निकली थी. मानो राज की जिंदगी किसी ने छीन ली हो. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एक इंटरव्यू में राज ने कहा था मुकेश के जाने से मेरी आवाज और आत्मा दोनों चली गई.

कानपुर के घाटमपुर तहसील में आकाशीय बिजली से मौत का आकड़ा पंहुचा सात

निधन से बेहद दुखी हुए थे राज कपूर

मुकेश की अचानक मौत से फिल्म इंडस्ट्री समेत देशभर में शोक की लहर दौड़ पड़ी थी. राज कपूर की फिल्म ‘सत्यम शिवम सुंदरम’ के गाने ‘चंचल निर्मल शीतल’ की रिकॉर्डिंग पूरी करने के बाद मुकेश अमेरिका में एक कंसर्ट में परफॉर्म करने चले गए, जहां 27 अगस्त 1976 को दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया.

ये कहना गलत नहीं होगा कि उनकी आवाज आज भी हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में कहीं ना कहीं हमसे टकराती है.

=>
LIVE TV