मिया-बीवी और घरवाले भी राजी, फिर भी पुलिस ने बीच में रोक दी शादी, जानिए क्यों

लव जिहाद की घटनाओं को रोकने के लिए यूपी में अभी कुछ ही दिन पहले नया कानून बनाया गया है। उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश लागू होने के बाद इससे जुड़ा पहला मामला भी सामने आ चुका है। वही राजधानी लखनऊ में अब इससे जुड़ा पहला मामला सामने आया है। घटना थाना पारा इलाके के डूडा कॉलोनी की है। जहां बुधवार को एक हिंदू लड़की और मुस्लिम लड़के की शादी घरवालों की रजामंदी से हो रही थी। हालांकि इसी बीच वहां पुलिस पहुंच गयी और अंतर-धार्मिक कानून का हवाला देते हुए शादी रुकवा दी।

Source: specialevents

प्राप्त जानकारी के अनुसार हिंदू युवा वाहिनी के कुछ प्रतिनिधियों ने शादी को लेकर आपत्ति जताई थी। इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शादी में हस्तक्षेप किया। नए कानून के अनुसार दो धर्मों के लोगों के बीच तभी शादी हो सकती है जब दो महा पहले डीएम को सूचित किया गया हो। इसको लेकर सामने आ रहा है कि रैना और आसिफ दोनों दो माह का इंतजार करने को तैयार हैं।

बताया गया कि शादी दोनों परिवारों की रजामंदी से हो रही थी और कोई भी जबरदस्ती नहीं थी। आसिफ का कहना है कि उन्हें या घरवालों को नए कानून की जानकारी नहीं थी। फिलहाल अब मजिस्ट्रेट की मंजूरी के बाद ही शादी की जाएगी।

=>
LIVE TV