‘बीजेपी के जीत की सबसे बड़ी वजह है मोदी का मजबूत गृह राज्य’

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृहराज्य गुजरात में एक बार फिर से सभी 26 लोकसभा सीटों पर जीत हासिल की है। भाजपा ने 2014 के चुनाव में भी राज्य की सभी सीटों पर जीत हासिल की थी।

भाजपा को राज्य में 62 प्रतिशत से अधिक मत प्राप्त हुए तथा जीत का न्यूनतम अंतर 1.27 लाख वोट रहा। इन आंकड़ों से राज्य में भाजपा की लहर का अंदाजा लगाया जा सकता है।

विपक्षी कांग्रेस पार्टी 2014 की तरह इस बार भी गुजरात में खाता खोलने में असफल रही। राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस ने 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा को अच्छी टक्कर दी थी। हालांकि कांग्रेस 2019 में उस प्रदर्शन को बनाये रख पाने में असफल साबित हुई।

इस बार मोदी गुजरात से चुनाव नहीं लड़ रहे थे। हालांकि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष इस चुनाव में पहली बार अहमदाबाद लोकसभा सीट से मैदान में उतरे और रिकार्ड अंतर से जीत हासिल की। वर्ष2014 में मोदी वडोदरा से भी जीते थे लेकिन बाद में उन्होंने यह सीट छोड़ दी थी।

मतों की गणना शुक्रवार सुबह 10 बजे तक जारी रही। एक चुनाव अधिकारी ने कहा कि वीवीपैट की गिनती के कारण परिणाम की घोषणा में देरी हुई।

भाजपा के वयोवृद्ध नेता लालकृष्ण आडवाणी की पारंपरिक सीट गांधीनगर से इस बार शाह मैदान में थे। उन्होंने निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस के सी.जे.चावडा को 5.57 लाख वोट से हराया। शाह को 8.94 लाख वोट मिले जबकि चावडा को 3.37 लाख वोट मिले।

नवसारी से भाजपा उम्मीदवार सी.आर.पाटिल को 6.89 लाख वोट से जीत मिली। यह राज्य की सभी 26 सीटों में जीत का सर्वाधिक अंतर रहा। पाटिल पिछले चुनाव में इस सीट से 5.58 लाख वोट से जीते थे।

वडोदरा में भाजपा के रंजन भट्ट ने कांग्रेस के प्रशांत पटेल को 5.84 लाख मत से परास्त किया।

सूरत में भाजपा की दर्शना जारदोष ने कांग्रेस उम्मीदवार अशोक पटेल को 5.48 लाख वोट से हराया। इसी तरह जामनगर से भाजपा की पूनम मैडम ने कांग्रेस की मुलु कंदोरिया को 2.36 लाख वोट से, आनंद सीट से भाजपा के मितेश पटेल ने कांग्रेस उम्मीदवार एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री भरत सोलंकी को 1.97 लाख वोट से,

बारदोली में भाजपा के प्रभु वसावा ने कांग्रेस के तुषार चौधरी को 2.15 लाख वोट से, छोटा उदेपुर से भाजपा की गीताबेन रथवा ने कांग्रेस के रंजीतसिंह रथवा को 3.77 लाख वोट से और राजकोट से भाजपा के मोहल कुंदरिया ने कांग्रेस के ललित कगथरा को 3.68 लाख वोट से हराया।

इनके अलावा वालसाड, पंचमहल, खेडा, कच्छ, अहमदाबाद (पूर्व), अहमदाबाद (पश्चिम), बानसकांठा, भरूच और भावनगर में भाजपा के उम्मीदवारों ने तीन लाख से अधिक वोटों से जीत हासिल की।

जीत का सबसे कम अंतर दाहोद में भाजपा उम्मीदवार जसवंतसिंह भाभेर का 1.27 लाख मतों का रहा।

राज्य के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने भाजपा की शानदार जीत पर खुशी व्यक्त करते हुए राज्य के लोगों को इसका श्रेय दिया। उन्होंने कहा, ‘‘राजनीतिक विद्वानों को एक्जिट पोल आने तक मोदी लहर दिखाई नहीं दे रही थी। आज परिणाम से लहर स्पष्ट हो गयी है। यह देश के लोगों की जीत है। यह नरेंद्र मोदी और उनके ईमानदार एवं निर्णायक नेतृत्व में लोगों का भरोसा दिखाता है।’’

कांग्रेस ने अपनी हार स्वीकार कर ली है।

कांग्रेस के अध्यक्ष अमित चावडा ने कहा, ‘‘यह देश के लोगों का जनादेश है और हम इसे स्वीकार करते हैं। हम अपनी खामियों की पहचान करने और दूर करने की कोशिश करेंगे।’’

समाजवादी परिवार के लिए पार्टी खत्म, बीजेपी को फायदा

परिणाम सामने आने के बाद राज्य भर में भाजपा कार्यकर्ताओं ने जश्न मनाना शुरू कर दिया। गांधीनगर के बाहरी इलाके में स्थित कुदासन गांव में लोग मोदी के घर के सामने जमा हो गये जहां उनकी वयोवृद्ध मां हीराबा मोदी भी लोगों के साथ जश्न में शरीक हुईं।

=>
LIVE TV