बरेली के गैस एजेंसी संचालक का साथी सहित अपहरण कर 40 लाख की फिरौती मांगने की स्क्रिप्ट

बरेली के गैस एजेंसी संचालक का साथी सहित अपहरण कर 40 लाख की फिरौती मांगने के मामले में नया मोड़ आ गया। जिसके तहत गैस एजेंसी संचालक और उसके साथी का न तो अपहरण हुआ और न ही कोई फिरौती मांगी गई। दरअसल गैस एजेंसी संचालक और उसके साथी को सिविल ड्रेस में बाजपुर पुलिस पकड़ कर अपने साथ ले गई थी। क्योंकि गैस एजेंसी संचालक की कार से टक्कर लगने पर विवाद हो गया। जिसके बाद गुस्से में आई पुलिस दोनो को अपने साथ थाने ले गई थी।

जहां अपहरण और 40 लाख की फिरौती की सूचना मिलने के बाद पुलिस ने उसे छोड़ दिया। मामले में परिजन गैस एजेंसी संचालक को लेने रामपुर गए है। जिसके आने के बाद मामले में तस्वीर और भी स्पष्ट हो सकेगी। गौरतलब है कि सोमवार को बरेली से रामपुर जनपद मीटिंग में शिरकत करने गए गैस एजेंसी संचालक और उसके साथी का अपहरण करने का मामला सामने आया था। जिसके तहत गैस एजेंसी संचालक के भाई ने अज्ञात बदमाशों द्वारा अपहरण कर 40 लाख की फिरौती मांगने की जानकारी पुलिस को दी थी।

कुछ ऐसी थी गैस एजेंसी संचालक के अपहरण की स्क्रिप्ट

गैस एजेंसी संचालक के परिजनों द्वारा अपहरण की जो स्क्रिप्ट बताई गई थी। वो कुछ ऐसी थी। परिजनों ने बताया कि बरेली के शीशगढ थाने के अंतर्गत गांव सहोडा में राजेंद्र कुमार भारत गैस एजेंसी का संचालन करते है। वह सोमवार को रामपुर जनपद के बिलासपुर में गैस एजेंसी संचालको की बैठक में शिरकत करने साथी सोनी के साथ कार से गए थे। मीटिंग के बाद दोपहर में राजेंद्र अपने साथी साेनी के साथ घर वापस आ रहे थे। जैसे ही कार सवार गैस एजेंसी संचालक राजेंद्र की कार बिलासपुर के बंगाली कालोनी मोड पर पर पहुंची थी।

तभी एक व्यक्ति ने पता पूछने के बहाने उनकी कार रोक ली थी। जिसके बाद अचानक बिना नंबर की क्रिएटा कार से कुछ लोग पहुंचे जो दोनो को अपने साथ जबरन कार में बिठा ले गए थे। जिसके बाद एक ग्रामीण ने बंगाली कालोनी मोड के पास एजेंसी संचालक की कार खडे़ होने की सूचना परिजनों को दी थी। मौके पर पहुंचे परिजनों में एजेंसी संचालक के भाई ने अपहरणकर्ताओं द्वारा अपहरण किए जाने की सूचना उन्हें फोन पर दी थी और उनसे 40 लाख की फिरौती मांगे जाने की जानकारी पुलिस को दी थी। जिसके बाद पुलिस ने अपहरण कर्ताओं की तलाश शुरू कर दी थी।

=>
LIVE TV