फिर से PM बनने के बाद मोदी ले सकते हैं, तीन बड़े फैसले देखिए किसको होगा फायदा…

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजे आचुके हैं। देश का भविष्य एक बार फिर पीएम मोदी के हाथ होगा। जैसा कि पहले से ही ऐसे अनुमान लगाए जा रहे हैं कि अगर मोदी दोबारा पीएम बने तो वो प्रभावकारी और असरदार फैसले ले सकते हैं। और अब जब यह पूरी तरह से साफ हो चुका है कि अगले पीएम नरेंद्र ही होगें।

तो इस बात की चर्चा होना आम है कि पीएम की कुर्सी पर बैठते उनका धमाकेदार एलान क्या होने वाला है। आइए उन तीन फैसलों के बारे में चर्चा करते हैं जिनकी उम्मीद है​ कि शपथ ग्रहण करने के बाद पीएम मोदी ले सकते हैं।

अपने पिछले कार्यकाल के दौरान पीएम मोदी ने नोटबंदी और कालेधन पर कठोर कदम उठाया था इस बार ऐसी उम्मीद की जा रही है कि जम्मू कश्मीर से धारा 370 को समाप्त करने का फैसला हो सकता है। इस निर्णय के बाद कश्मीर में भी भारतीय कानून लागू हो जाएंगे और देश के इतिहास में यह सबसे दमदार फैसला होगा।

देश में भ्रष्टाचार का समूल नाश करने के लिए बचनबद्ध पीएम नरेंद्र मोदी मोदी बेनामी संपत्ति के कानून पर बड़ा फैसला ले सकते हैं। उनके द्वारा उठाए गए इस कदम पर उनकों जनता का भी सहयोग मिलेगा। काले धन का प्रभाव दिखाकर नेता अफसर व्यापारी लोगों के हितों को नजरंदाज करते हैं। ऐसे बड़े-बड़े नेता और अफसर या व्यापारी हैं जिनके पास बेनामी संपत्ति हैं। मोदी सरकार इन पर नकेल तो कस चुकी है लेकिन इस बार पीएम मोदी की सरकार इस कानून को बड़े स्तर पर लागू कर सकती है।

पीएम मोदी ने अपने पिछले कार्यकाल में देश की सीमाओं से घुसपैठ रोकने के लिए कई ठोस कदम उठाए थे। एनआरसी यानि नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स उन्ही प्रभावशली कदमों में से एक था। विशेषज्ञों द्वारा ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है ​कि पीएम मोदी का एक नजदीकी फैसला एनआरसी यानि नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स को दूसरे राज्यों में लागू करवाने का हो सकता है।

मोदी सरकार चुनाव से पहले ही असम में इस मुद्दे पर सख्ती करवा चुकी है। इस बार देश से घुसपैठियों को निकालने के लिए पश्चिम बंगाल से लेकर अन्य राज्यों में इस फैसला को मोदी सरकार लागू करवा सकती है।

केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक समाप्त, 17वीं लोकसभा का गठन 3 जून से पहले…

अब जब लोकसभा चुनाव के नतीजे आ चुके हैं, बीजेपी की अगुवाई वाले गठबंधन को जबरदस्त जीत हासिल हुई है। एनडीए को 340 से ज्यादा सीटें मिली हैं, जबकि कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए को मात्र 92 सीटों पर संतोष करना पड़ा।

=>
LIVE TV