प्रेरक-प्रसंग: नजरिया बदले

काफी समय पहले की बात है। दो युवक कहीं जा रहे थे कि तभी उन्हें थकान लगने लगी और धूप ज्यादा होने की वजह से वह थकान और बढ़ गई। उन्होंने देखा कि पास एक बड़ा सा पेड़ है। दोनों उस पेड़ के पास गए और वहां आराम करने लगे।

नजरिया बदले

इसी दौरान पेड़ की टहनियों को देखते हुए एक युवक ने दूसरे कहा कि इस पेड़ में एक भी फल नहीं लगे हुए हैं। यह तो पूरी तरह से फालतू पेड़ है। किसी भी काम का नहीं है।

यह सुनकर दूसरे युवक ने जवाब दिया कि हम दोनों काफी थकान के बाद इस पेड़ के नीचे आराम कर रहे हैं। इससे दोनों को ही काफी राहत मिली है। लेकिन तुमने पेड़ में फल न लगने की वजह से कह दिया कि यह किसी काम का पेड़ नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि अच्छाई सभी में होती है बस हमें उसके लिए एक अलग नजरिए से उसे देखने की जरूरत है।

=>
LIVE TV