प्रयागराज के पुराने शहर में अब नहीं करना पड़ेगा आपको जाम का सामना, पुराने स्‍वरूप में वापस लौटी कुछ सड़कें

प्रयागराज के पुराने शहर में अब आपको जाम का सामना नहीं करना पड़ेगा। क्‍योंकि वहां की सड़कें अपने पुराने स्‍वरूप में वापस लौट आई हैं। यानी अतिक्रमण हटने से चौड़ी हो गई हैं। पिछले दिनों जिलाधिकारी के निर्देश के बाद सड़क की पटरियों पर दुकान लगाने वालों ने खुद से अपनी-अपनी दुकानें हटा ली हैं। चौक, घंटाघर, रोशनबाग, कोठापार्चा, कटरा समेत कई बाजारों में फुटपाथ दुकानदारों ने ऐसा किया है। साथ ही नूरुल्ला रोड और कटरा में कूलर बेचने वालों ने भी सड़क पर रखे जाने वाले सामानों को अब दुकान में ही रख रहे हैं। जिससे सड़क एक फिर अपने पुराने स्वरूप में लौट आई है और लोगों को जाम के झाम से मुक्ति मिल गई है।

दो दिन पहले डीएम ने की थी बैठक

दो दिन पहले जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वमी ने व्यापारियों के साथ बैठक की थी। उन्होंने कहा था कि फुटपाथ पर दुकानें लगने से जाम की समस्या खड़ी हो रही है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सड़क पटरियों पर दुकानें न लगें तो बेहतर रहेगा। इसे लेकर व्यापारियों ने सहमति जताई और इसका असर भी नजर आने लगा है।

राेज लगता था जाम

सड़क की पटरियों पर दुकानें लगाने से चौक, घंटाघर, कटरा, रोशनबाग, कोठापार्चा समेत अन्य बाजारों में प्रतिदिन जाम की समस्या खड़ी होती थी। सड़क की चौड़ाई बेहद कम हो जाती थी। फुटपाथ पर लगी दुकानों से खरीदारी करने वाले लोग भी अपने वाहन यहीं खड़ा कर देते थे, जिस कारण समस्या और भी बढ़ जाती थी।

पानदरीबा के पास सबसे खराब थी स्थिति

पानदरीबा के पास स्थिति सबसे खराब थी। यहां फुटपाथ पर दुकानें तो लगती ही थीं, सड़क के बीचो बीच काफी दूर तक वाहनों का रेला लगा रहता था। इसमें चार पहिया से लेकर दोपहिया वाहन तक खड़े रहते थे। इतना ही नहीं सड़क के बीचो बीच कई दुकानदार अपनी दुकानें भी लगाते थे।

=>
LIVE TV