प्रतापगढ़ में निजी स्कूलों के मुकाबले प्राइमरी स्कूल भी हो रहे तैयार, इन्‍हें दी गई है जिम्‍मेदारी

प्रतापगढ़ में निजी स्कूलों के मुकाबले प्राइमरी स्कूल भी तैयार हो रहे हैं। इनकी तस्वीर बदल रही है। अब वह दिन दूर नहीं जब जिले के शत-प्रतिशत परिषदीय स्कूल आपरेशन कायाकल्प में लकदक हो जाएंगे। इसके लिए सीडीओ ने बीडीओ व बीईओ को जिम्मेदारी दी गई है। इसी सितंबर माह तक सारे कार्य पूरा किए जाने का निर्देश दिया गया है।

यह सारे कार्य ग्राम पंचायतों की निधि से कराए जाएंगे

आपरेशन कायाकल्प योजना के अंतर्गत जिले के सभी परिषदीय स्कूलों में ब्लैक बोर्ड, शौचालय, पेयजल, हैंड-वॉशिंग फैसिलिटी, फर्श की मरम्मत, दरवाजे, खिड़कियां, विद्युतीकरण, किचन शेड, फर्नीचर, इंटरलॉकिंग टाइल्स, अतरिक्त कक्ष सहित 14 बिंदुओं पर कार्य किया जाना है। इसके अलावा सभी स्कूलों में व्हाइट बोर्ड लगेगा और मार्कर से पढ़ाई होगी। मॉडल प्राइमरी स्कूलों में प्रोजेक्टर लगाए जाएंगे। यह सारे कार्य ग्राम पंचायतों की निधि से कराए जाएंगे।

बीईओ व बीडीओ को सौंपी गई है जिम्‍मेदारी

जिले में कुल दो हजार 752 परिषदीय स्कूल हैं। इनमें 2030 प्राथमिक विद्यालय एवं 722 पूर्व माध्यमिक विद्यालय हैं। इन विद्यालयों में आपरेशन कायाकल्प योजना के अंतर्गत ग्रामपंचायतों के 14वें वित्त की धनराशि से कायाकल्प कराया जाए। बेसिक शिक्षा विभाग ने स्कूलों से प्रस्ताव लेकर इसकी कार्य योजना बनाकर खंड विकास अधिकारियों व खंड शिक्षा अधिकारियों को कार्य कराने की जिम्मेदारी दी है। यह सारे कार्य सितंबर माह तक पूरे किए जाने हैं।

इन आंकड़ों पर डालें एक नजर
– कुल परिषदीय स्कूल – 2752
– कुल प्राइमरी स्कूल- 2030
– कुल पूर्व माध्यमिक विद्यालय – 722
– कायाकल्प योजना में आच्छादित हो चुके विद्यालय – 952
– कायाकल्प में आच्छादित होने वाले स्कूलों की संख्या – 1800।

बोले, बीएसए अशोक कुमार

प्रतापगढ़ के बीएसए अशोक कुमार कहते हैं कि आपरेशन कायाकल्प के अंतर्गत जिले के सभी स्कूलों का कायाकल्प कराकर फाइव स्टार रेटिंग में लाया जाएगा। 14 बिंदुओं पर कार्य कराया जा रहा है। सितंबर माह तक हर हाल में कार्य पूर्ण करना है। इसकी मानीटरिंग मुख्य विकास अधिकारी कर रहे हैं।

=>
LIVE TV