मानसून सत्र के दौरान संसद में पीएम मोदी को छप्पी देने वाला राहुल गांधी का वीडियो शेयर किया गया

नई दिल्ली। कांग्रेस ने मंगलवार को ‘हग डे’ के दिन राहुल गांधी का पीएम मोदी को गले लगाते हुए एक वीडियो शेयर करते हुए भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है.

राहुल गांधी

पिछले साल जुलाई में मानसून सत्र के दौरान संसद में पीएम मोदी को गले लगाते हुए राहुल गांधी का वीडियो कांग्रेस ने इंस्टाग्राम पर शेयर किया है. वीडियो के साथ लिखा है, ‘आज भाजपा को हमारा सीधा संदेश: गले लगाइए, नफरत मत कीजिए.’ 13 घंटे में अभी तक इस वीडियो को करीब 50 हजार लोग देख चुके हैं, वहीं करीब 14 हजार लोगों ने इसे लाइक किया है.

बता दें, संसद में एनडीए और विपक्ष के बीच अविश्वास प्रस्ताव पर बहस हो रही थी, तभी राहुल गांधी सदन में चलकर पीएम मोदी की कुर्सी तक पहुंचे और उन्हें गले लगा लिया. राहुल गांधी के इस कदम से कई नेता चौंक गए थे.

दिल्ली में केजरीवाल की महारैली आज, यशवंत सिन्हा भी करेंगे मंच साझा…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमेशा निशाना साधते रहने वाले राहुल गांधी अक्सर कहते हैं कि वह प्रधानमंत्री से नफरत नहीं करते. कुछ सप्ताह पहले राहुल गांधी ने भुवनेश्वर में ने कहा था, ‘वह (पीएम मोदी) मुझसे असहमत होंगे, मैं उनसे असहमत हूं और मैं उनसे लड़ाई लडूंगा लेकिन मैं उनसे नफरत नहीं करता. मैं उन्हें अपनी राय रखने का मौका देता हूं. वह कांग्रेस पार्टी से नाराज होंगे. मैं वह समझ सकता हूं लेकिन हम उनसे गुस्सा नहीं हैं. हम लोगों से नफरत नहीं करते.’

View this post on Instagram

Today our message to the #BJP is simple: #Hug, don't hate 🤗 . . #HugDay

A post shared by Congress (@incindia) on

मंगलवार को राफेल मामले में सामने आई एक नई मीडिया रिपोर्ट के हवाले से राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर उद्योगपति अनिल अंबानी के ‘बिचौलिए’ की तरह काम करने और सरकारी गोपनीयता कानून का उल्लंघन करने का आरोप लगाते हुए दावा किया कि प्रधानमंत्री ने जो किया है वो ‘देशद्रोह’ है. गांधी ने यह भी कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता करने के लिए मोदी पर आपराधिक कार्रवाई शुरू होनी चाहिए.

CM गहलोत आज पेश करेंगे अंतरिम बजट…जानें क्या होगा खास…

उन्होंने यह सवाल भी किया कि प्रधानमंत्री के फ्रांस दौरे से पहले अंबानी को कैसे पता चल गया था कि सौदा होने वाला है और कांट्रैक्ट उन्हें मिलने वाला है? हालांकि भाजपा ने आरोप को खारिज करते हुए कहा है कि एयरबस के कार्यकारी ने एक हेलीकॉप्टर सौदे को संदर्भित करते हुए ईमेल भेजा था, राफेल को नहीं.

रिलायंस डिफेंस ने भी एक बयान जारी कर गांधी के इस आरोप का खंडन करते हुए कहा कि ईमेल में उल्लेखित “प्रस्तावित एमओयू” का जिक्र एयरबस हेलीकॉप्टर के साथ उसके सहयोग को लेकर किया गया है.

कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री पर ताजा हमला उस वक्त बोला है जब अंग्रेजी अखबार ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि मार्च 2015 के चौथे हफ्ते में व्यवसायी अनिल अंबानी फ्रांस के तत्कालीन रक्षामंत्री ज्यां-यवेस ले ड्रियन के पेरिस स्थित दफ्तर गए थे. इसके दो हफ्ते बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने की घोषणा की थी.

=>
LIVE TV