पंचकोसी परिक्रमा खत्म होने से पहले अलर्ट पर सुरक्षा व्यवस्था, पढ़िए क्या है कारण

अयोध्या में अभी पंचकोसी परिक्रमा खत्म भी नहीं हुई है वहां की गलियां और सड़ों को सील किया जाने लगा है. गुरुवार की सुबह 9 बजकर 47 मिनट पर रामजन्मभूमि की 15 किमी की परिधि में हिन्दू श्रद्धालुओं ने पंचकोसी परिक्रमा शुरू की यह परिक्रमा शुक्रवार को 11 बजकर 56 मिनट पर समाप्त होगी.

अयोध्या में प्रशासन ने रामजन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर सुरक्षा के इंतजाम कड़े कर दिए हैं. पंचकोसी परिक्रमा शुरू होने से पहले ही गुरुवार की सुबह से ही अयोध्या का नजारा बदला-बदला सा दिखाई देने लगा था. हर चेकपोस्ट-बैरियर पर आने-जाने वालों को सघन तलाशी के बाद ही रामनगरी की ओर बढ़ने की इजाजत दी जा रही थी. श्रद्धालुओं, साधु-संतों से लेकर रोज आने-जाने स्थानीय लोगों-व्यापारियों के बैग-झोले खंगाले गए.

पुलिस की इस सुरक्षा व्यवस्था के दौरान लोगों के मोबाइल के चार्जर तक रखवा लिए गए. आपको बता दें कि अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला कभी भी आ सकता है जिसके मद्देनजर अयोध्या की सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है. फैजाबाद के बेनीगंज में भी बैरियर लगा दिया गया है आपको बता दें कि इसके पहले कभी पंचकोसी परिक्रमा में यहां से कोई रोक-टोक नहीं होती थी. यहां से ट्यूशन जाने वाले बच्चों, दुकानदारों-कारोबारियों की बाइकें-साइकिलें तक अंदर जाने से रोक दी गईं हैं. इतनी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था को देखकर तमाम लोग वापस घर लौटने को मजबूर थे.

CM योगी ने की अपील-

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले आने से पहले यूपी सरकार लगातार सुरक्षा व्यवस्था दुरुस्त कर रही है. इसी क्रम में सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने गुरुवार को यूपी के सभी डीएम और एसएसपी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करके निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि भड़काऊ सोशल मीडिया पोस्ट पर तत्काल कार्रवाई करें. सीएम योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा कि अयोध्या फैसले को लेकर जनता, नेताओं और धार्मिक गुरुओं के साथ सभी से संवाद लगातार बनाए रखें.

13-14 नवंबर को ब्रिक्स सम्मेलन में शामिल होने ब्राजील पहुंचेंगे PM मोदी

अवध विश्वविद्यालय के एक प्रोफेसर ने बताया कि इतनी कड़ी सुरक्षा उन्होंने अयोध्या में कभी नहीं देखी. सदर बाजार से लेकर कैंट फैजाबाद तक फेरी लगाने वाले विक्रेता अपना सामान समेट कर पैदल बमुश्किल निकल पाए शहर के अतिसंवेदनशील विवादित परिसर के पीछे मिश्रित आबादी वाले मोहल्लों की सड़कें और गलियों को लकड़ी की बल्लियों से सील कर दिया गया है, यहां से पैदल भी सड़क पर आने का रास्ता नहीं छोड़ा जा रहा है.

=>
LIVE TV