देश के लाखों लोगों से वर्चुअल संवाद करेंगे RSS के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत, पढ़े पूरी खबर

पर्यावरण, वन, जल एवं भूमि के संरक्षण विषय पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत देश के लाखों लोगों से वर्चुअल संवाद करेंगे। मौका होगा संघ से संबंधित हिंदू आध्यात्मिक एवं सेवा संस्थान के द्वारा 30 अगस्त को आयोजित प्रकृति वंदन कार्यक्रम का। इसके लिए तैयारी शुरू कर दी गई है। संस्थान की हरियाणा इकाई ने एक लाख से अधिक लोगों को कार्यक्रम से जोड़ने का लक्ष्य रखा है। इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि देश भर के कितने लोग कार्यक्रम से जुड़ेंगे।

हरियाणा में कार्यक्रम के संयोजक प्रदीप शर्मा ने बताया कि पिछले कुछ सालों से हिंदू आध्यात्मिक एवं सेवा संस्थान द्वारा पूरे देश में पर्यावरण, वन तथा जीव सृष्टि संरक्षण हेतु प्रकृति वंदन नाम से कार्यक्रम का आयोजन शुरू किया गया है। इसका मुख्य उद्देश्य प्रकृति के महत्व काे समझाना व समाज में प्रकृति के प्रति सम्मान एवं श्रद्धा भाव जगाना है। इस बार कार्यक्रम के दौरान संघ प्रमुख डॉ.  मोहन भागवत लोगों से संवाद करेंगे।

कोरोना संकट की वजह से संवाद कार्यक्रम राष्ट्रव्यापी होगा, क्योंकि एक साथ देश के लाखों लोगों से संघ प्रमुख वर्चुअल संवाद करेंगे। इसे लेकर हर प्रांत के लिए अलग-अलग टीम बनाकर संयोजक की जिम्मेदारी सौंप दी गई है। कार्यक्रम को लेकर संघ के स्वयंसेवकों के भीतर ही नहीं, बल्कि विचारों से जुड़े सभी लोगों में जबर्दस्त उत्साह है। लोग बढ़-चढ़कर ऑनलाइन पंजीकरण करा रहे हैं। संवाद कार्यक्रम का सीधा प्रसारण फेसबुक, यूट्यूब आदि के माध्यम से भी किया जाएगा।

कार्यक्रम से देश के प्रमुख नागरिकों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं को विशेष रूप से जोड़ा जाएगा। यही नहीं किसी भी क्षेत्र के सेलिब्रिटी को कार्यक्रम से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा। प्रयास है कि संघ प्रमुख का संदेश अधिक से अधिक लाेगों तक पहुंचे, ताकि आगे उसका लाभ दिखाई दे। आज विकास की आंधी में कहीं न कहीं प्रकृति से जुड़ाव कम हुआ है। पहले बहुत आवश्यक होने पर ही पेड़ों की कटाई करते थे। अब जब इच्छा होती है लोग पेड़ों की कटाई करा देते हैं। इससे साफ है कि पेड़ों के प्रति भावनात्मक लगाव में कहीं न कहीं कमी आई है। प्रकृति वंदन कार्यक्रम के माध्यम से लोगों के भीतर फिर से भावनात्मक लगाव पैदा करना है।

=>
LIVE TV