टैक्‍स बचाने के लिए करोड़ों जमा किए बैंक लॉकर्स में, अब अपने ही पैसे निकालने से लग रहा डर

लॉकर्सहैदराबाद। केंद्र सरकार ने देश में छिपे कालेधन को निकालने के लिए 500 और 1000 के नोटों पर पाबंदी लगा दी है। इस पाबंदी के बाद से आम जनता को अनेकों प्रकार की कठिनाइयों से रूबरू होना पड़ रहा है। जिन किसानों ने साल 2013-14 में अपनी जमीन बेची थी और उनके रुपए बैंकों के लॉकर्स में थे, वे अब अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के बैंक अकाउंट्स के लिए घूम रहे हैं, ताकि 2.5 लाख रुपए हर एक अकाउंट में बिना किसी जुर्माना के जमा करा सकें।

बैंक अधिकारियों का कहना है कि परेशान किसान बैंकों के चक्कर लगा रहे हैं और बैंक अधिकारियों से पूछ रहे हैं कि वे अपने पैसों को बिना किसी जुर्माना के कैसे जमा करा सकते हैं। अक्टूबर 2013 से मार्च 2015 तक इस क्षेत्र के किसानों ने उस वक्त अपनी जमीन बेच दी थी, जब रिपोर्ट्स आई थीं कि नई राजधानी यहां बनाई जाएगी। उस वक्त जमीनों के भाव काफी बढ़ गए थे। कुछ किसानों ने जिन जमीनों की कीमत 40 लाख रुपए प्रति एकड़ थी, वह उन्होंने एक करोड़ रुपए या उससे ज्यादा में बेच दी थी।

खबरों के मुताबिक ज्यादात्तर किसानों ने उन पैसों से जमीन खरीद ली, घर बना लिया या फिर लग्जरी गाड़ियां खरीद लीं। लेकिन कुछ किसानों ने वह रकम बैंक लॉकर्स में रखी थी, वहीं कईयों ने इसे अपने घर में ही रखा हुआ था।

=>
LIVE TV