जानिए नौकरी पाने के लिए 13 साल के छात्र ने किया एप्पल का सिस्टम हैक…

नई दिल्ली – आस्ट्रेलिया में 17 वर्षीय एक स्कूली छात्र ने नौकरी पाने के लिए एप्पल  सिस्टम ही हैक कर लिया। उसे उम्मीद थी कि कंपनी उसकी क्षमता से प्रभावित होकर नौकरी दे देगी। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एडिलेड में रहने वाले छात्र ने मेलबर्न स्थित एक अन्य किशोर के साथ मिलकर एप्पल के मेनफ्रम को दिसंबर 2015 और फिर 2017 की शुरुआत में हैक किया था और आंतरिक दस्तावेजों एवं डाटा डाउनलोड किया था।

एप्पल

 

उसने कहा कि झूठे डिजिटल क्रेडेंशियल्स बनाने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी में अपनी ‘उच्च स्तर की विशेषज्ञता’ का उपयोग किया, जिससे एप्पल के सर्वर को लगा कि वह कंपनी का एक कर्मचारी है। उसके कामों की रिपोर्ट फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन को दी गई, जिन्होंने ऑस्ट्रेलियाई फेडरल पुलिस (एएफपी) से संपर्क किया। अपने मुवक्किल की रक्षा करते हुए किशोर के वकील मार्क ट्विग्स ने अदालत को बताया कि उनके मुवक्किल को उस समय अपने काम की गंभीरता के बारे में पता नहीं था और उन्हें लगा कि कंपनी उन्हें नौकरी दे सकती है।

 

विश्व कप में अपनी जगह बनाने के बाद, टीवी चैट शो विवाद पर फिर बोले राहुल

बता दें की ट्विग्स  का कहना हैं की यह तब शुरू हुआ, जब मेरा मुवक्किल 13 साल का था। उसे अपराध की गंभीरता के बारे में नहीं पता था और उम्मीद थी कि जब इस बारे में सभी को पता चलेगा तब उसे कंपनी में नौकरी मिलेगी। वहीं वकील ने यह भी कहा कि एक ऐसा ही एक मामला यूरोप में हुआ था और हैकर को एप्पल में नौकरी मिल गई थी।

दरअसल उन्होंने कहा कि एपल को इस हैक से किसी प्रकार का वित्तीय या बौद्धिक नुकसान नहीं हुआ। किशोर ने एडिलेड यूथ कोर्ट का सामना किया और कई कंप्यूटर हैकिंग के आरोपों को माना। मजिस्ट्रेट डेविड व्हाइट ने इस मामले में सजा नहीं सुनाई और उसे नौ महीने तक अच्छा व्यवहार रखने के लिए 500 डॉलर के बांड पर रखा।

 

=>
LIVE TV