जानिए क्या है ये जानलेवा बुखार जो कर रहा है आपके इम्यून सिस्टम को बेकार….

बदलते मौसम और बारिश की वजह से कई तरीके के संक्रमण फैल रहे जिससे अधिकतर लोग इसकी चपेट में आ रहे है। ऐसा ही एक मौसमी संक्रमण वाला बुखार “वायरल बुखार” लोगों को अपना शिकार बना रहा है जोकि हमारे इम्यून सिस्टम को कमजोर कर देता है, जिसकी वजह से शरीर में संक्रमण बहुत तेजी से बढ़ता है। वायरल का संक्रमण बहुत तेजी से एक इंसान से दूसरे इंसान तक पहुंच जाता है। तो आज हम आपको बताएंगे क्या होता है वायरल फीवर , लक्षण और इसके उपचार

 

क्या है वायरल फीवर ?

मानसून में लोगों को सबसे ज्यादा वायरल बुखार परेशान करता है ये किसी खास तरह के वायरस की वजह से होने वाला बुखार नहीं है बल्कि कई अलग-अलग तरह के वायरस से होने वाला इन्फेक्शन्स है। जो लोगों के इम्यून सिस्टम को कमजोर कर देता है और दूसरे कमजोर व्यक्ति को भी आसानी से हो जाता है।

ये भी पढ़ेजो भी अफसर लेगा पैसे , उसे जेल जाना तय हैं- सीएम योगी

ये हो सकती है वायरल फीवर की वजह

वायरल फीवर वायरस से कन्टैमिनेटेड फूड या बेवरेज लेने के कारण हो सकता है।

दूषित हवा में सांस लेने से सांस के जरिए भी वायरस बॉडी में जा सकते हैं।

किसी इन्फेक्टेड परसन के साथ (ब्लड, फिजिकल) संपर्क में आने के कारण भी वायरल फीवर हो सकता है।

वायरल बुखार का एक कारण सर्दी भी है मौसम परिवर्तन|

ये भी पढ़ेतेज रफ्तार मैक्स पिकअप डिवाइडर से टकराई, ड्राइवर की जलकर हुई मौत

तो ऐसे करे वायरल फीवर की पहचान

बुखार का बहुत तेज और फिर कुछ देर के लिए कम होना|

शरीर में अत्यधिक थकान का महसूस होना|

मांसपेशियों और जोड़ो में दर्द का होना|

अत्यधिक ठंड का लगना|

उलटी होना, नाक का बंद होना, खांसी, सिरदर्द, दस्त और शरीर पर चितके होना|

ये भी पढ़े : एक बार विवादों में घिरी ZOMATO कंपनी , बीफ की डिलीवरी करने से स्टाफ का इनकार…

ये करे उपचार

सबसे पहले बुखार को कम करने के लिए डॉक्टर से सलाह लें

इंफेक्शन फैलाने वाली चीजों को दूर करें

तरल पदार्थो का सेवन अधिक करें

समय से दवा का सेवन करें

पूरा आराम करें

तेज बुखार होने पर गीले कपड़े की पट्टियां माथे पर रखें

वायरल बुखार वाले व्यक्ति के रूमाल, तौलिया और कपड़े अलग रखें

वायरल बुखार के पीड़ित से छींक या खांसी आने पर संपर्क में आने से बचें

 

=>
LIVE TV