जानिए इस पांच खिलाड़ियों को नहीं भूलेगा इंग्लैंड , बनाया एक नया रिकॉर्ड…

सांसें रोक देने वाले रोमांचक फाइनल में बाजी मारकर इंग्लैंड पहली बार वर्ल्ड चैंपियन बना। वहीं इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड को हराकर पहली बार वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया। देखा जाये तो लगातार तीसरी बार ऐसा हुआ जब मेजबान देश चैंपियन बनने में सफल रहा। 2011 में भारत, 2015 में ऑस्ट्रेलिया और इस बार इंग्लैंड विजेता बना।

 

बतादें की इंग्लैंड 27 साल बाद फाइनल में उतरा था, जहां उसे खिताबी जीत मिली। जहां न्यूजीलैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 8 विकेट के नुकसान पर 241 रन बनाए।

जानिए आखिर क्यों धोनी को चयनकर्ता संन्यास लेने पर कर रहे हैं मजबूर , टीम से बाहर करने की पूरी तैयारी…

वहीं जवाब में इंग्लैंड ने भी निर्धारित 50 ओवर में इतने ही रन बनाए। मुकाबला सुपर ओवर में गया, जहां दोनों टीमों ने 15-15 रन बनाए। इसके बाद इंग्लैंड को मैच में ज्यादा चौके लगाने के आधार पर विजेता घोषित कर दिया गया। आइए जानते हैं इंग्लैंड की इस खिताबी जीत के कौन रहे पांच हीरो?

इस बेहद शानदार मुकाबले को यहां तक पहुंचाने और इंग्लैंड को वर्ल्ड चैम्पियन बनवाने में बेन स्टोक्स का अहम योगदान रहा। दरअसल बेन स्टोक्स ने अपनी शानदार पारी में 98 गेंदों में नाबाद 84 रनों (5 चौका और 2 छक्का) की गजब की पारी खेली। सुपर ओवर में भी इंग्लैंड ने बल्लेबाजी करने के लिए बेन स्टोक्स (8) को ही जोस बटलर (7) के साथ भेजा।

चार विकेट गिरने के बाद क्रीज पर आए नए बल्लेबाज बेन स्टोक्स और जोस बटलर ने लड़खड़ती पारी को संभालने की जिम्मेदारी उठाई। पांचवें विकेट के लिए दोनों ने साथ मिलकर 110 रन जोड़े। बटलर ने 60 गेंदों में छह चौके की मदद से 59 रन की शानदार अर्धशतकीय पारी खेली।

देखा जाये तो पूरे टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करने वाले जॉनी वेयरस्टो ने फाइनल में अपनी टीम की इस खिताबी जीत में 36 रनों का योगदान दिया। लेकिन इस दौरान उन्होंने ताबड़तोड़ सात चौके लगाए। उनका स्ट्राइक रेट 65. 45 का रहाक्रिस वोक्स

जहां क्रिस वोक्स ने शानदार गेंदबाजी करते हुए नौ ओवर में 37 रन देकर तीन विकेट चटकाए। पूरे टूर्नामेंट में वोक्स ने कुल 13 विकेट झटके।वहीं लियाम प्लंकेट ने इस मैच में 10 ओवर में 42 रन देकर तीन विकेट महत्वपूर्ण चटकाए। पूरे टूर्नामेंट में वोक्स ने कुल 11 विकेट से झटके हैं।

 

=>
LIVE TV