चीन ने बनाई दूरी, जापान ने भी नहीं दिया साथ, भारत की एक ‘न’ से फंस गया पाकिस्तान

चीनदिल्ली। भारत की एक ‘न’ की वजह से पाकिस्तान अंधेरे में आने वाला है। इसके पीछे भारत के दोस्त जापान और पाकिस्तान के दोस्त चीन ने भी मदद करनी शुरू कर दी है।

दरअसल, एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) ने पाकिस्तान को जबरदस्त झटका दिया है। एडीबी ने पाकिस्तान को डैमर-भाशा डैम के लिए 14 बिलियन डॉलर देने से इनकार कर दिया है।

एडीबी ने कहा है कि यह एक बड़ा प्रोजेक्ट है और इसलिए हम पाकिस्तान से कोई वादा नहीं कर सकते हैं।

जापान के रहने वाले और एडीबी प्रेसिडेंट ताकेहिको नकाओ ने पाकिस्तान के वित्त मंत्री इशाक दार के साथ आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में खुलकर अपनी बात रखी।

उन्होंने कहा कि यूनाइटेड स्टेट्स एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलेपमेंट के मुताबिक यह एक बेहद बड़ा प्रोजेक्ट है। इससे पाकिस्तान की ऊर्जा जरूरतें पूरी होंगी। लेकिन हम इस प्रोजेक्ट पर तभी हामी भर सकते हैं, जब पाकिस्तान इसमें किसी बड़े देश के साथ पार्टनरशिप करे।

इस प्रोजेक्ट पर भारत ने दो साल पहले ही पाकिस्तान का साथ देने से इनकार कर दिया था। वहीं, अब चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कोरिडोर (सीपीईसी) पर पाकिस्तान की मदद कर रहा चीन अब इससे दूरी बनाने में लगा है। यही वजह है कि उसने पाकिस्तान के इस प्रोजेक्ट में पाटर्नर बनने पर हामी नहीं भरी है। इसी वजह से पाकिस्तान अकेला पड़ गया है।

एडीबी प्रेसिडेंट ने साफ कह दिया कि इस बारे में फिलहाल बात नहीं होगी। आगे देखा जाएगा कि एडीबी पाकिस्तान की मदद कर सकता है या नहीं।

इस मौके पर एडीबी प्रेसिडेंट ताकेहिको नकाओ ने पाकिस्तान की खिंचाई भी की। पाकिस्तान के वित्त मंत्री के सामने उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान अपने देश में हो रहे भ्रष्‍टाचार से नहीं लड़ पा रहा है। यहां मनी लॉन्डरिंग और टैक्स चोरी के तमाम मामले सामने आ रहे हैं। इस स्थिति में मदद की उम्मीद कैसे की जा सकती है।’

खबरें है कि एडीबी प्रेसिडेंट को जापान ने भी इस मामले में ज्यादा रुचि न दिखाने को कहा है। दूसरी ओर पाकिस्तान की छवि दुनिया में बेहद खराब है। अब तक सिर्फ चीन ही इसकी आर्थिक मदद कर रहा था, लेकिन पाक के बिगड़ते हालात के चलते अब सभी देश यहां से अपने पैर खींच रहे हैं।

=>
LIVE TV